हिमाचलः जरूरत के वक्त दी डयूटी, अब दिखाया बाहर का रास्ता; 45 नर्सें मेडिकल कॉलेज से आउट

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचलः जरूरत के वक्त दी डयूटी, अब दिखाया बाहर का रास्ता; 45 नर्सें मेडिकल कॉलेज से आउट


हमीरपुरः
कोरोना महामारी के दौर में प्रदेश के अस्पतालों में आम जनमानस को सेवाएं देने के लिए आउटसोर्स के आधार पर नर्सों की तैनाती की गई थी। जिन्होंने कोरोना महामारी के कठिन दौर में अपनी जान की परवाह न करते हुए पूरी मेहनत और लगन से अपनी सेवाएं दी। इसके बावजूद प्रशासन ने आउटसोर्स पर तैनात इन नर्सों को हमीरपुर स्थित डा राधाकृष्णन मेडिकल कॉलेज से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है।

यह भी पढ़ें: हिमाचलः एक दिन में रेलगाड़ी की चपेट में आए दो लोग- दोनों को गंवानी पड़ी जान

बता दें कि इससे पहले कांगड़ा जिले स्थित डॅा राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॅालेज टांडा में नर्सों को निकाला गया था और अब इसी कड़ी में हमीरपुर जिले स्थित डा राधाकृष्णन मेडिकल कालेज में भी आउटसोर्स पर तैनात 45 नर्सों की सेवाएं समाप्त कर दी। हालांकि नर्सों के निकाले जाने का विरोध पूरे प्रदेशभर में हो रहा है। 

वहीं, इस मसले पर नर्सों को तैनात करने वाली संबंधित एजेंसी की मानें तो उनको नीड बेस पर रखा गया था और उन्हें पहले ही बताया गया था कि यदि रेगुलर भर्ती होती है तो आपको बाहर निकाल दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: किशोर ने हमउम्र लड़की को कर दिया प्रेग्नेंट; मां-बाप के जाने के बाद करता था हैवानियत

इस मामले में बुद्धिजीवियों की मानें तो कोविड-19 की कठिन परिस्थितियों में आउटसोर्स पर तैनात इन नर्सों ने अपनी जान जोखिम में डालकर करीब दो सालों तक सेवाएं दीं, लेकिन इन सेवाओं के बदले इनको नौकरी से बाहर कर सरकार ने इनके साथ खिलवाड़ किया है। यही नहीं कोरोना मरीजों के बीच भी ये नर्सिस लगातार काम करती रहीं और कई तो इनमें से पॉजिटिव भी हुई, लेकिन अब इनको अस्पताल से बाहर करना सबको अखर रहा है।

Post a Comment

0 Comments