हिमाचल: गाड़ी खरीदने में हुई लाखों की धोखाधड़ी से लगा शख्स को सदमा, चली गई जान

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: गाड़ी खरीदने में हुई लाखों की धोखाधड़ी से लगा शख्स को सदमा, चली गई जान


कांगड़ाः हिमाचल प्रदेश में बीते कुछ दिनों में धोखाधड़ी के कई मामले सामने आए हैं। ताजा मामला प्रदेश के कांगड़ा जिले स्थित धर्मशाला से सामने आया है। जहां क्षेत्र के गोलवां गांव के एक व्यक्ति को गैरकानूनी तौर पर गाड़ी बेचने वाले गिरोह ने लाखों रूपए का चूना लगा दिया। वहीं, अपने साथ हुई धोखाधड़ी के कारण लगे सदमे से उक्त व्यक्ति की मौत हो गई। जिस पर मृतक शख्स के भाई ने धोखाधड़ी की शिकायत पुलिस में दी है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: सुबह-सवेरे जो सामने आया उसे रौंदती चली गई कार, हुआ ये अंजाम

वहीं, पुलिस ने मृतक के भाई द्वारा दी गई शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर दिया है। इसके साथ ही पुलिस मामले की छानबीन करने में जुट गई है। मृतक व्यक्ति की पहचान कमल कुमार पुत्र करतार चंद निवासी सथेरा गोलवां के रूप में हुई है। 

फ्रॉड से जुड़ा यह पूर मामला पढ़कर आप भी रह जाएंगे दंग 

वहीं, इस पूरे मामले पर मृतक व्यक्ति के भाई हरवंस लाल ने पुलिस को दी शिकायत में जिले के एक व्यक्ति पर गाड़ियां खरीदकर बिना अपने नाम किए आगे बेचकर पार्टी से पैसे लेने व फिर असली मालिक से गाड़ी की चोरी कि शिकायत करवाकर उनसे गाड़ी छीन ले जाने का आरोप लगाया है।

यह भी पढ़ें: पूर्व CM वीरभद्र सिंह ने दोबारा कोरोना को हराया: राजा साहब की ताजा स्वास्थ्य अपडेट, यहां पढ़ें

हरबंस लाल का कहना है कि उनके भाई कमल कुमार ने बोलेरो पिकअप जीप का चार लाख 23 हजार रूपए में सौदा किया था। वहीं, गाड़ी खरीने पर उनके भाई ने 4 लाख 3 हजार रूपए का पेमेंट मौके पर कर दिया था और इस वर्ष फरवरी में एनओसी मिलने के बाद बची हुई राशि (20 हजार रूपए) देने की बात तय हुई थी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: सुबह की सैर को निकले सब इन्स्पेक्टर सड़क पर गिरे, थोड़ी देर बाद हार्ट अटैक से निधन

इस दौरान अभी गाड़ी को अपने नाम किए जाने की प्रक्रिया शुरू की ही थी कि इस बीच उक्त गाड़ी के असली मालिक ने पुलिस थाने में गाड़ी के गुम होने की रिपोर्ट दर्ज करवा दी। इसके बाद रैहन पुलिस चौकी में दोनों पार्टियों को बुलाया गया। यहां पर पुलिस की मौजूदगी में गाड़ी असली मालिक को सौंप करके उनके भाई को चार लाख तीन हजार रूपए वापस देने को लेकर इकरारनामा भी हुआ।

पेमेंट तो कर दी लेकिन बाउंस हो गया चेक 

वहीं, 20 दिनों के इकरारनामे की शर्तें पूरी करने में नाकाम रहने पर आरोपी ने उसके भाई कमल कुमार को उक्त राशि के तीन चेक थमा दिए। इसके बाद कमल कुमार ने तीनों चेक जब पंजाब नेशनल बैंक की शाखा राजा का तालाब में नकद निकासी के लिए जमा करवाए. तो बैंक द्वारा उन्हें बताया गया कि खाते में पर्याप्त धनराशि ना होने की वजह से उन्हें पेमेंट नहीं दी जा सकती है और वे तीनों चेक बाउंस हो गए। जिस पर उनके भाई ने जब आरोपी व्यक्ति को फोन किया तो उसका फोन नहीं लगा। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: मोड़ पर खोया कार का नियंत्रण, 200 फीट नीचे गिरी- सेना के जवान समेत दो का टूटा दम

वहीं, अपने साथ हुई इस धोखाधड़ी के सदमे को उनका भाई सहन नहीं कर सका और उसकी मौत हो गई। मृतक के भाई हरबंस लाल ने पुलिस प्रशासन व जिला प्रशासन से आरोपित व्यक्ति के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।

Post a Comment

0 Comments