हिमाचल में एक और आरोपी को हुई उम्रकैद की सजा: चाक़ू मारकर ली थी महिला लैब अटेंडेट की जान

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल में एक और आरोपी को हुई उम्रकैद की सजा: चाक़ू मारकर ली थी महिला लैब अटेंडेट की जान


कांगड़ा।
हिमाचल प्रदेश में जहां आज बहुप्रतीक्षित गुड़िया मामले पर फैसला सुनाते हुए अदालत ने आरोपी नीलू चरानी को उम्रकैद की सजा सुनाई है। वहीं, दूसरी तरफ प्रदेश के कांगड़ा जिले स्थित अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश धर्मशाला पारस डोगर की अदालत ने भी एक अन्य मामले में लैब अटेंडेंट कमल कौर की हत्या के दोषी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। 

यह भी पढ़ें: CM जयराम ने बताया: कब होगा उपचुनाव के प्रत्याशियों के नाम का ऐलान- पढ़ें पूरी रिपोर्ट

कोर्ट ने सजा के तहत न्याजपुर निवासी सुनील कुमार को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत आजीवन कारावास व 10 हजार जुर्माना, धारा 452 के तहत तीन साल की कैद व 3000 जुर्माना, धारा 382 के तहत तीन साल की कैद व 3000 जुर्माना व 201 के तहत तीन साल की कैद व 3000 जुर्माना लगाया गया है। इन सभी धाराओं के तहत लगाए जुर्माने को न दिए जाने की सूरत में एक वर्ष का अतिरिक्त कारावास दोषी को काटना होगा।

यहां पढ़ें, क्या था पूरा मामला 

स्पेल (जवाली) निवासी महिला कमल कौर नूरपुर में लैब अटेडेंट की नौकरी करती थी और न्याजपुर निवासी अशोक कुमार के किराये के मकान में रहती थी। 19 अप्रैल, 2017 को दोषी न्याजपुर निवासी सुनील कुमार सुबह करीब चार बजे उसके घर में घुस आया। उसने कमल कौर पर चाकू से हमला कर दिया। कमल कौर के चीखने की आवाज सुनकर पड़ोसियों ने शोर मचाया और वह कमल कौर के घर ओर बढ़े। 

यह भी पढ़ें: गुड़िया केस: ताउम्र जेल में रहेगा नीलू; बोला- मैं बेकसूर, CBI ने फंसाया, फैसले के खिलाफ करूंगा अपील

इसके बाद घबराकर सुनील कुमार कमल कौर के गले से सोने की चेन छीन भाग गया व चाकू वहीं चारदीवारी पर छोड़ गया। जब्बर खड्ड में कमीज के बाजू काट दिए। कमीज को धोकर पहना और पठानकोट चला गया। जहां उसने एक सुनार को सोने की चेन बेच दी और नए कपड़े खरीद लिए। मौके पर पहुंचे पड़ोसियों ने कमल कौर को मृत पाया और पुलिस को सूचना दी। 

यह भी पढ़ें: HPPSC ने जारी किया आठ श्रेणियों के पदों के लिए कंप्यूटर टेस्ट का शेड्यूल, यहां देखें

पुलिस ने एफआइआर दर्ज करते हुए जांच शुरू की, तभी पुलिस को पता चला एक पड़ोसी महिला, जोकि दोषी की पत्नी है व मृतका एक ही मिशन से जुड़ी हुई हैं। जिस पर पुलिस ने दोषी की पत्नी से उसके पति के बारे में पूछा तो उसने जवाब दिया कि वह तो नौकरी पर चले गए हैं। पुलिस ने मोबाइल नंबर पर फोन किया तो फोन स्विच आफ था। जिस पर शक के आधार पर पुलिस ने सुनील कुमार के मोबाइल नंबर सर्विलांस पर रखा। 

यह भी पढ़ें: हिमाचलः विधायक के प्रयासों से 22 साल बाद बन रही कारगिल शहीद की 7 फिट लंबी प्रतिमा

कुछ दिन बाद सुनील कुमार ने भाई को फोन किया तो भाई ने उसे घर बुलाया और कहा कि उसे पुलिस ढूंढ रही है। पुलिस ने सुनील कुमार को न्याजपुर में गिरफ्तार कर लिया और जबर खड्ड से कमीज के बाजू भी बरामद किए। इसके बाद मामला अदालत में चला और दोष सिद्ध होने पर सुनील कुमार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है।

Post a Comment

0 Comments