हिमाचल के इस जिले में आटे और दालों के वितरण पर लगाई रोक, जानें क्या है वजह

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल के इस जिले में आटे और दालों के वितरण पर लगाई रोक, जानें क्या है वजह

शिमला। हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति में सरकारी डिपुओं में आटे और दालों के वितरण पर अस्थायी तौर से रोक लगा दी गई है। दरअसल, विभाग ने आटे के साथ तीनों दालों के सैंपल मंगवाए हैं। इसकी रिपोर्ट आने तक इन खाद्यान्नों का जिले में वितरण नहीं किया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: ब्लैक फंगस के दो और मरीजों ने तोड़ दम; अबतक 6 की जा चुकी है जान

इसी हफ्ते सरकारी डिपुओं में एक्सपायरी आटे और दालों के वितरण का मामला सूबे के मीडिया संस्थानों ने प्रमुखता से उठाया गया था। अब इन्हीं ख़बरों पर संज्ञान लेते हुए राज्य नागरिक आपूर्ति निगम ने यह कदम उठाया है। निगम की कार्यकारी निदेशक डॉ तनुजा जोशी ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति में खाद्यान्नों की आपूर्ति सरकार के निर्देशानुसार जनजातीय कार्य योजना के तहत की जाती है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में छठा वेतन आयोग लागू करने को लेकर CM जयराम का बड़ा बयान; यहां पढ़ें- क्या बोले

गौरतलब है कि घाटी में पूरे वर्ष के लिए अग्रिम रूप से आटे और दालों की जुलाई से अक्तूबर तक सप्लाई की जाती है और थोक गोदामों में ब्रिकी जुलाई से लेकर नवंबर माह तक होती है। जिले में हाल ही में 2020-21 के लिए भी खाद्य वस्तुओं के साथ आटे की आपूर्ति की गई थी। हर वर्ष खाद्यान्नों की काफी मात्रा वितरण के बाद शेष रह जाती है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल के मंत्री वाह-वाह: बिना मास्क लगाए बोले-मास्क जरूरी है, उड़ाई कोरोना नियमों की धज्जियां

निगम की तरफ से जारी परमिटों अनुसार बिक्री करने के बाद थोक गोदाम कारगा और उदयपुर में अन्य खाद्य वस्तुओं के साथ 2200 क्विंटल आटा बचा रह गया था। जनजातीय क्षेत्र लाहुल घाटी में थोक गोदाम कारगा व उदयपुर में शेष बचे आटे व दालों के स्टॉक की गुणवत्ता जांचने के लिए निगम ने गोदाम प्रभारियों से सैंपल मंगवा लिए हैं और जल्द ही जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। लैब टेस्टिंग रिपोर्ट आने के बाद ही आटे व दालों का आवंटन किया जाएगा। 

Post a Comment

0 Comments