हिमाचल में बंदिशें कम करने पर 11 को फैसला: CM ने दिए संकेत- जल्द शुरू होगा पब्लिक ट्रांसपोर्ट

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल में बंदिशें कम करने पर 11 को फैसला: CM ने दिए संकेत- जल्द शुरू होगा पब्लिक ट्रांसपोर्ट

शिमला। हिमाचल प्रदेश की जयराम सरकार कोरोना कफ्र्यू के कारण लगी बंदिशों को कम करने पर 11 जून को फैसला करेगी। इसके लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने 11 जून को मंत्रिमंडल की बैठक बुलाई है, जिसमें कोविड-19 की स्थिति की विस्तृत समीक्षा होगी। इस बीच मंगलवार दोपहर बाद ढाई बजे सीएम जयराम दिल्ली से लौटकर शिमला के अनाडेल हवाई अड्डे पर हेलीकॉप्टर से उतरे और इस दौरान मीडिया से बात की। 

यह भी पढ़ें: नड्डा से मिलकर वापस लौटे CM जयराम: बदलाव की खबरों पर बोले- 2022 में भी यहीं रहूंगा

यहां सीएम ने कहा कि क्योंकि कोरोना के केस कम हुए हैं। ऐसे में सरकार ढील देगी। हालांकि, 14 तारीख तय कर्फ्यू जारी रहेगा। वहीं, सीएम ने संकेत दिए हैं कि जल्द ही प्रदेश में पब्लिक ट्रांसपोर्ट भी शुरू होगा।

यह भी पढ़ें: डलहौजी का नाम सुभाष नगर करोः स्वामी की डिमांड पर आशा कुमारी का विरोध, CM को लिखा पत्र

बता दें कि बैठक में सरकारी कार्यालयों में स्टाफ की संख्या को 30 फीसदी से बढ़ाकर 50 फीसदी या इससे अधिक करने को लेकर भी निर्णय लिया जाएगा, ताकि सरकारी कामकाज को पटरी पर लाया जा सके। सार्वजनिक परिवहन सेवा को सशर्त शुरू करने पर बैठक में मोहर लगने की पूरी संभावना है, क्योंकि आम आदमी की तरफ से सरकार पर इसके लिए लगातार दबाव पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: CM जयराम ने रात भर किया इंतज़ार पर PM से मुलाक़ात की अपॉइंटमेंट नहीं मिली, बैरंग वापस लौटे

कई सरकारी कर्मचारी भी बस सेवा के शुरू न होने के कारण अपने कार्यालय नहीं पहुंच पा रहे हैं। हालांकि इन रियायतों के बावजूद शिक्षण संस्थानों को फिलहाल बंद रखे जाने की संभावना है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में 14 जून प्रात: 6 बजे तक कोरोना कफ्र्यू लगा है, जिसमें सुबह 9 से दोपहर 2 बजे तक सभी दुकानों को खोलने की अनुमति दी गई है। ऐसे में दुकानों को खोलने की अवधि को भी बढ़ाया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें: फलाईंग सिख की सेवा में जुटी हुई हैं हिमाचल की बेटी डॉ शिवानी: वायरल हुई तस्वीर

मौजूदा समय में प्राइवेट बस आप्रेटर भी सरकार से नाराज चल रहे हैं। इस बारे यूनियन के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से मिलकर अपना पक्ष रखा है। इसे देखते हुए सरकार उनको भी रियायत देने पर भी विचार कर सकती है। खेल गतिविधियों को फिर से सशर्त शुरू करने और सार्वजनिक समारोह में शामिल होने वालों की संख्या को बढ़ाए जाने पर भी विचार किया जा सकता है। 

Post a Comment

0 Comments