हिमाचल: ख़त्म किया जा रहा ड्राइवर भर्ती में लिखित परीक्षा का झंझट, कैबिनेट सब-कमेटी की रिपोर्ट तैयार

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: ख़त्म किया जा रहा ड्राइवर भर्ती में लिखित परीक्षा का झंझट, कैबिनेट सब-कमेटी की रिपोर्ट तैयार


शिमला।
हिमाचल प्रदेश के सरकारी क्षेत्र में ड्राइवर की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा का झंझट खत्म किया जा रहा है। एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से इस बात का दावा किया गया है कि सरकार इस पर फैसला लेने वाली है जिसने इस मामले में एक कैबिनेट सब कमेटी का गठन किया था। इसमें शामिल किए गए मंत्रियों ने अधिकारियों से चर्चा कर ली है और सभी तरह की परिस्थितियों को लेकर अपनी रिपोर्ट कैबिनेट के सामने रखेंगे। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में नेता की हत्या करने वाला मोस्ट वांटेड गैंगस्टर 'जयपाल भुल्लर' एनकाउंटर में ढेर

माना जा रहा है कि 11 जून को होने वाली कैबिनेट की बैठक में इसपर सरकार कोई फैसला लेगी। जानकारी के अनुसार कैबिनेट उप समिति ने इस मुद्दे पर अधिकारियों से चर्चा की है। कार्मिक विभाग के अफसरों को इसमें विकल्प देखने के लिए कहा गया जिन्होंने एचआरटीसी से भी उनके मापदंडों की परख यहां पर की है। एचआरटीसी के अपने मापदंड हैं और उनकी बीओडी चालक भर्ती खुद करवाती है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में बंपर भर्ती: HRTC में भरे जाएंगे 890 पद- आ रही हैं नई बसें

वहीं, दूसरे विभागों में चालकों की भर्ती कार्मिक विभाग द्वारा दिए गए निर्देशों के आधार पर होती है। इसमें चालकों को भी लिखित परीक्षा देनी होती है। वर्तमान सरकार का मानना है कि जब चालकों की भर्ती के लिए 10वीं कक्षा को मान्यता दी गई और उसे ही आधार बनाया गया है, तो फिर इस योग्यता में लिखित परीक्षा का कोई मतलब नहीं है। गौर हो कि अभी चालक भर्ती के लिए 85 नंबर की लिखित परीक्षा ली जा रही है, जिसे सरकार ठीक नहीं मान रही। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: बड़ी राहत- HRTC के साथ प्राइवेट बसें भी दौड़ेंगी! ऑपरेटर्स के टैक्स माफ़ करने की तैयारी

इसके विपरीत जो तकनीकी क्षमता चाहिए, उसकी परख को ज्यादा बढ़ाया जा सकता है, जिस पर बात चल रही है। तकनीकी रूप से चालक के पद का अभ्यर्थी कितना सक्षम है, उसे देखा जाएगा, बजाय इसके कि उसे लिखित परीक्षा देनी पड़े। सूत्र बताते हैं कि लिखित परीक्षा को समाप्त किया जा सकता है। इस पर अभी फैसला कैबिनेट ने लेना है, जो अधिकारियों द्वारा सुझाए गए तरीकों पर बनी उप समिति की रिपोर्ट पर चर्चा करेगी। 

यह भी पढ़ें: जयराम कैबिनेट कल: 25 जून के बाद कॉलेजों में परीक्षा! 3 महीने स्कूल खोलने के पक्ष में नहीं अभिभावक

राज्य में सभी सरकारी क्षेत्रों के चालकों की भर्ती को लेकर यह फैसला लिया जाना है। इसमें एचआरटीसी को बीच में नहीं लिया जाएगा, जिसके अलावा दूसरे विभागों के चालकों की भर्ती को इस फैसले में शामिल किया जा रहा है। उपसमिति की बैठक दो दिन पहले इस संबंध में हुई है, जिसमें विस्तार से पूरे मामले पर चर्चा हुई। तकनीकी क्षमता की परख के लिए इसमें कुछ और बातों को शामिल किया जाएगा ना कि लिखित परीक्षा को महत्व देंगे। अंकों को किस तरह से बांटा जाएगा यह देखना होगा।

Post a Comment

0 Comments