खबर का असरः CM जयराम ने मंजूर किए 1 लाख, 6 साल से अपने आप टूट जाती हैं प्रिंस की हड्डियां

Ticker

6/recent/ticker-posts

खबर का असरः CM जयराम ने मंजूर किए 1 लाख, 6 साल से अपने आप टूट जाती हैं प्रिंस की हड्डियां

सोलनः हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले से बीते कल एक बेहद ही हैरान करने वाला मामला सामने आया था। जहां 10 साल का प्रिंस नामक एक बच्चा ऐसी बीमारी से जूझ रहा है जिस का पता अभी तक नहीं लग पाया है। इस बेनाम बीमारी के कारण प्रिंस की हड्डियां अपने आप ही बिना गिरे, बिना चोट लगे टूट जाती हैं। 

पिछले 6 सालों से अपने बेटे की इस बीमारी को झेल रहे माता पिता ने उसके इलाज के लिए मीडिया की सहायता से प्रशासन व लोगों के आगे मदद की गुहार लगाई थी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में फिर मिली तेंदुए की खाल, हफ्ते भर के भीतर दूसरी कामयाबी- एक आरोपी अरेस्ट

वहीं, न्यूज फॅार हिमालायंस समेत कुछ मीडिया संस्थानों द्वारा इस बात को उठाया गया था और प्रदेश के तमाम लोगों व सरकार से सहायता की अपील की गई थी। जिसके बाद अब इस खबर का असर अब देखने को मिला है। 

ये है वो खबर : हिमाचलः 6 साल से अपने आप टूट रही हैं प्रिंस की हड्डियां, मदद करें- ये रहा अकाउंट नंबर

प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने 10 वर्षीय प्रिंस चौधरी के माता-पिता को उसके इलाज के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष से एक लाख रूपए स्वीकृत किए हैं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचलः 11 अप्रैल से लापता हुई थी महिला, घर से 350 Km दूर हुई बरामद

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि प्रदेश सरकार गरीबों और जरूरतमंदों को सहायता प्रदान करने और यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है कि धन के अभाव के कारण कोई भी व्यक्ति उचित उपचार पाने से वंचित न रहे। उन्होंने लोगों से मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए उदारतापूर्वक अंशदान करने का आग्रह किया।

बच्चे का पिता पहले ही बेच चुका है- जमीन और गहने 

इस मामले में छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने भी मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर बच्चे और उसके माता-पिता की स्थिति से अवगत करवाया था। बच्चे के पिता गुरुमेल सिंह पहले ही इलाज के लिए अपनी जमीन और गहने बेच चुके हैं। ऐसे में जयराम सरकार की ओर से प्रिंस के इलाज के लिए जारी की गई एक लाख रूपए का धनराशि काफी कारगर साबित होगी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: महिला के पास से मिला था झोला भर नशा, अब उसकी निशानदेही पर 'चमकीला' अरेस्ट

बता दें कि प्रिंस का इलाज PGI चंडीगढ़ में चल रहा है और वह पिछले छः सालों से इस बेनाम बीमारी से जूझ रहा है। प्रिंस की इस भयानक बीमरी से ग्रसित होने का पता तब चला जब एक दिन अचानक से प्रिंस की स्कूल में टांग की हड्डी टूट गई। इस बीमारी के कारण प्रिंस की पढ़ाई भी छूट गई है। अपने बेटे की बीमारी के इलाज के लिए उसके माता-पिता को आर्थिक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: राहत कोष के आवंटन में गड़बड़ी- पहले कम पैसे भेजे, स्वर्गवास के बाद जारी किया बकाया

वहीं, वर्तमान में प्रिंस का परिवार आर्थिक तंगी से भी जूझ रहा है। प्रिंस के इलाज के लिए उसके माता-पिता ने गहने व जमीन तक बेच डाली है। जब उनके पास कोई और रास्ता नहीं बचा तो प्रिंस की मां ने विभिन्न मीडिया संस्थानों के जरिए लोगों व प्रशासन से मदद की गुहार लगाई थी।

Post a Comment

0 Comments