हिमाचल: सर्वप्रिय राकेश प्रजापति के बाद सिरमौरी बेटे निपुण जिंदल ने संभाला DC कांगड़ा का पदभार

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: सर्वप्रिय राकेश प्रजापति के बाद सिरमौरी बेटे निपुण जिंदल ने संभाला DC कांगड़ा का पदभार


कांगड़ाः
हिमाचल प्रदेश में कोरोना महामारी के दौर में स्वास्थ्य विभाग के विशेष सचिव के पद पर बेहतरीन कार्य करने वाले IAS अधिकारी निपुण जिंदल को सरकार ने अब प्रदेश के कांगड़ा जिले में बतौर उपायुक्त के पद की जिम्मेदारी सौंपी है। बता दें कि 28 साल की उम्र में आईएएस बनने वाले निपुण जिंदल जिला सिरमौर के रहने वाले हैं। निपुण जिंदल ने पहले डीसी कांगड़ा रहे राकेश प्रजापति की जगह पर तैनाती पाई है। 

राकेश प्रजपति ने बना ली लोगों के दिलों में जगह 

अपनी कार्यशैली से लोगों के दिलों में जगह बना चुके कांगड़ा के डीसी राकेश कुमार प्रजापति का भी तबादला कर दिया गया है। उनके तबादले की खबर के बाद सोशल मीडिया पर संदेशों की भरमार लग गई। लोगों ने उनके यहां से ट्रांसफर होने पर दुख जताया, साथ ही उनका आभार भी जताया। राकेश कुमार प्रजापति को अब उद्योग विभाग के निदेशक के रूप में नियुक्त किया है। 

नए डीसी निपुण जिंदल के बारे में यहां पढ़ें 

निपुण जिंदल ने पांवटा साहिब के गुरू नानक मिशन पब्लिक स्कूल से जमा दो की पढ़ाई की है। इसके बाद उन्होंने पीजीआई रोहतक से एमबीबीएस की शिक्षा प्राप्त की। इतना ही नहीं उन्होंने हड्डी रोग विशेषज्ञ बनने के लिए जयपुर से एमडी की पढ़ाई भी की है। इसके बाद उन्होंने UPSC की परीक्षा पास की। मीडिया से विशेष बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि बतौर डीसी ये उनकी पहली पोस्टिंग है। उन्होंने कहा कि वो अपना बेहतरीन करने का प्रयास करेंगे। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: DC-IAS तो बदल दिए; अब होगा कई जिलों के SP-ASP और DSP का तबादला, तैयारी शुरू

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि वो मेडिकल के क्षेत्र में ही जाना चाहते थे, मगर अचानक ही उनके मन में विचार आया कि मेडिकल की शिक्षा का उपयोग प्रशासन के माध्यम से आम जनता के लिए बेहतरीन तरीके से किया जा सकता है। यही कारण रहा कि उन्होंने कोविड संकट में स्वास्थ्य विभाग के विशेष सचिव की कमान बेहतरीन ढंग से संभाली। उन्होंने कोरोना महामारी के समय में अपनी मेडिकल की पढ़ाई का बखूबी से इस्तेमाल किया। इतना ही नहीं सरकार ने उन्हें स्वास्थ विभाग के विशेष सचिव के साथ प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में भी सदस्य सचिव का अतिरिक्त पदभार दे रखा था। 

Post a Comment

0 Comments