हिमाचल के कर्मचारियों को रास नहीं आया पंजाब पे कमीशन; बोले- ये तो धोखा है, समझें कैसे

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल के कर्मचारियों को रास नहीं आया पंजाब पे कमीशन; बोले- ये तो धोखा है, समझें कैसे


शिमला।
हिमाचल प्रदेश के दो लाख नियमित कर्मचारियों और एक लाख 20 हजार पेंशनरों को छठा वेतनमान जल्दी ही मिल जाएगा। पंजाब में इसे लागू करने और एक साल का एरियर देने के ऐलान के बाद हिमाचल सरकार पर दवाब रहेगा। वैसे प्रदेश सरकार बजट में इसकी घोषणा कर चुकी है। लेकिन हिमाचल प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों को पंजाब द्वारा बनाया गया यह नया पे कमीशन रास नहीं आ रहा है। 

यह भी पढ़ें: HPTET: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया की लास्ट डेट बढ़ी, एग्‍जाम डेट भी आई सामने

प्रदेश अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ ने पंजाब के छठे वेतनमान की रिपोर्ट को हिमाचल और पंजाब के कर्मचारियों के साथ बड़ा धोखा करार दिया है। महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि पांच वर्ष के लंबे इंतजार के बाद जो रिपोर्ट आई है वह छल से भरी पड़ी है। वेतनमानों को लेकर सारा आकर्षण काफुर हो गया। यह रिपोर्ट खोदा पहाड़ निकली चुहिया जैसी साबित हुई। रिपोर्ट में 2011 को दिए ग्रेड पे चालाकी के साथ मर्ज कर दिए गए हैं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: 45 वर्ष के सन्यासी ने शिव मंदिर में लगाया ध्यान, अचानक से लटक गई गरदन; सांसे थमी

महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष एनआर ठाकुर ने आगे कहा कि एरियर का भुगतान नौ किस्तों में साढ़े चार सालों में होगा, जो ऊंट के मुंह में जीरे के समान है। सभी भत्ते 2021 के बाद दिए जाएंगे। बहुत से भत्तों को खत्म कर दिया गया। यह वेतनमान केंद्र के वेतनमानों से फिसड्डी साबित हुआ है। एक कर्मचारी पहले 10 साल वेतन निर्धारण का इंतजार करे। फिर अगले 10 साल उसे लागू करवाने के लिए संघर्ष करे।उसके बाद जब सरकार वेतनमान देती है तो वह भी टुकड़ों में। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल पुलिस को मिली बड़ी सफलता, Alto कार से बरामद की मोर पंख और कलगी

एनआर ठाकुर ने हिमाचल और पंजाब के कर्मचारियों से अपील करते हुए कहा कि उन्हें सरकारों की दमनकारी नीतियों का डट कर मुकाबला करने के लिए एक होना होगा, क्योंकि सरकारें हमेशा कामगारों का शोषण करती आई है। जब नेताओं को अपने वेतन भत्ते, पेंशन एवं अन्य लाभ लेने हों तो सभी पार्टियां एकजुट होकर उन्हें अविलंब लागू करवाती हैं। लेकिन अपने कर्मचारियों और मजदूरों को संविधान में दिए गए हकों से भी वंचित रखने में अहम भूमिका निभाती हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: HRTC ने बंद की 222 रूटों पर बस सेवा, नहीं मिल रही थी सवारियां

एनआर ठाकुर ने हिमाचल सरकार से भी अविलंब वेतनमानों को लागू करने बारे कहा है। उन्होंने कहा कि हिमाचल सरकार भी पिछले चार वर्षों से कर्मचारियों की कोई सुध नहीं ले रही है। जेसीसी का न होना सरकार की असफलता को दर्शाता है। समस्याओं का अंबार लगा है। लेकिन सरकार के कानों में कोई जूं नहीं रेंगती। जब चुनाव आते है तो कर्मचारियों की याद आती है, चुनाव निकलते ही सारे मुद्दे ठंडे बस्ते में चले जाते हैं। ऐसी सरकार की बेरुखी और उदासीनता कर्मचारी कब तक झेलेंगे। 

Post a Comment

0 Comments