हिमाचल: मॉनिटर लिजार्ड का शिकार करते चार गिरफ्तार, वाइल्ड लाइफ एक्ट के तहत FIR

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: मॉनिटर लिजार्ड का शिकार करते चार गिरफ्तार, वाइल्ड लाइफ एक्ट के तहत FIR

सिरमौर। हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले से बेजुबान जानवरों के खिलाफ अत्याचार कर उनका अवैध शिकार करने के मामला सामने आया है। यहां स्थित श्री रेणुका जी क्षेत्र स्थित धारटीधार के बायला व भरोग बनेडी के जंगल में सरीसृप की एक दुर्लभ प्रजाति के गौह (मॉनिटर लिजार्ड) के शिकार का मामला सामने आया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: कार में डेढ़ किलो चरस ला रहे युवक पुलिस को देख हड़बड़ाए, पकड़े गए

बतौर रिपोर्ट्स, पांवटा वन परिक्षेत्र की टीम इलाके में रूटीन गश्त पर थी इस दौरान चार शिकारियों के पास से दो गोह मृत वा एक गोह जिंदा बरामद की गई है। गिरफ्तार किए गए चारों आरोपी माजरा के रहने वाले बताए जा रहे हैं। जोकि वन विभाग की कांनस बीट में तीन गौह का अवैध शिकार करते दबोचे गए हैं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: नदी किनारे दबा मिला था कंकाल- अब 6 माह के बच्चे का DNA करेगा खुलासा

जिंदा गोह को जंगल मे छोड़ दिया गया, जबकि मृत को पशु चिकित्सालय ददाहू मे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस ने चारों आरोपियों को गिरफ्तार करके वन्य प्राणी अधिनियम की धारा 51A के तहत मामला दर्ज करके कार्रवाई शुरू कर दी है। आरोपियों की पहचान माजरा क्षेत्र के रहने वाले बिट्टू, अजय, राजकुमार व जुगनू के तौर पर की गई है। 

यह भी पढ़ें: पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह को जीते जी मारने वालों के खिलाफ FIR दर्ज, जानबूझ कर डाली थी पोस्ट!

मिली जानकारी के अनुसार रेणुका जी वन मंडल के डीएफओ श्रेष्ठानंद शर्मा शुक्रवार रात्रि को पांवटा साहिब की तरफ से रेणुका जी आ रहे थे। तभी बायला के निकट चार लोगों को उन्होंने गौह का अवैध शिकार करते हुए पाया। जिसकी सूचना उन्होंने वन खंड अधिकारी कांसर को दी। साथ ही उन चारों को पकड़कर रेणुका पुलिस के सुपुर्द कर दिया। बताया गया कि इन लोगों द्वारा इस सरीसृप प्रजाति के जीव का शिकार तस्करी की मंशा से किया जा रहा था। 

यह भी पढ़ें: जयराम सरकार ने खोले ताले, तो स्वास्थ्य विभाग ने किया अलर्ट: कहा- छूट से फिर बढ़ सकते है केस

संगड़ाह के डीएसपी शक्ति सिंह ने पुष्टि करते हुए कहा कि जांच जारी है। आरोपियों से गहन पूछताछ की जा रही है, ताकि ये पता लगाया जा सके कि इस तरह की घटना को वो पहले भी अंजाम दे चुके हैं या नहीं। डीएसपी ने कहा कि गोह को वाइल्ड लाइफ संरक्षण अधिनियम के शैडयूल-1 में शामिल किया गया है। हालांकि ये विलुप्त हो रही प्रजाति की सूची में नहीं है।

Post a Comment

0 Comments