हिमाचल: पटवारी ने मांगी 40 हजार की रिश्वत, शख्स ने रिकॉर्ड किया ऑडियो, इस तरह रंगे हाथों पकड़ाया

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: पटवारी ने मांगी 40 हजार की रिश्वत, शख्स ने रिकॉर्ड किया ऑडियो, इस तरह रंगे हाथों पकड़ाया


बिलासपुर।
आज दोपहर हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले से जुडी एक बड़ी अपडेट सामने आई थी कि यहां एक पटवारी को विजिलेंस द्वारा 40 हजार रूपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है। उस वक्त जानकारी अधूरी होने के कारण हम आपको पूरी अपडेट नहीं दे सकते थे, जिसके बाद अब इस मामले की पूरी अपडेट सामने आ गई कि आखिरकार इस पूरी वारदात का खुलासा विजिलेंस ने किस तरह किया और इसके पीछे की कहानी क्या है। 

यहां पढ़ें क्या है पूरा मामला 

बतौर रिपोर्ट्स, पटवारी ने दसलेहड़ा नवासी एक व्यक्ति से जमीन की रजिस्टरी की सेटलमेंट करवाने के एवज से 50 हजार रूपए की डिमांड की थी। भ्रष्टाचार के इस मामले का पटाक्षेप शिकायतकर्ता सुशील कुमार पुत्र हेमराज निवासी गांव व डाकघर दसलेहड़ा तहसील झंडुता ने किया है। सतर्कता विभाग को दिए शिकायत पत्र में शिकायतकर्ता ने कहा है कि कुछ समय पूर्व उसने तलाई में जमीन खरीदी थी। 

यह भी पढ़ें: खुलासा: जयराम कैबिनेट में हुई थी तीखी बहस; मंत्री महेंद्र सिंह ने लगाईं थी मुख्य सचिव खाची की क्लास

जमीन का विक्रय पत्र बनने के उपरांत विक्रय पत्र पटवार सर्कल झबोला के पटवारी पंकज कुमार के पास दर्ज करने के लिए पेश किया गया। उसके बाद राजस्व अधिकारी द्वारा इस जमीन का इंतकाल खरीदार के नाम अमल में लाया जा चुका था। इंतकाल हो जाने के उपरांत मामले के आरोपी पंकज कुमार ने रिश्वत लेने का एक झूठा जाल बुना। जानकारी के अनुसार राजस्व विभाग का ऑडिट झंडुता में चल रहा है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: फेल हुआ टिप्पर का ब्रेक- शख्स को रौंदकर 200 मीटर नीचे गिरा; एक मरा-2 घायल

मामले के आरोपी ने सुशील कुमार को कहा कि बाहर से आई हुई ऑडिट टीम ने उसके विक्रय पत्र को लेकर ढाई लाख रुपए जुर्माना तय कर रखा है। पटवारी ने शिकायतकर्ता को कहा कि यदि वह (शिकायतकर्ता) उसे 50 हजार रुपए देता है, तो इस मामले की वह सेटलमेंट करवा देगा। शिकायतकर्ता ने पटवारी को कहा कि वह इतनी भारी-भरकम रकम देने में असमर्थ है। इस पर पटवारी ने कहा कि उसे 40 हजार रुपए तो देने ही पड़ेंगे। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: सर्वप्रिय राकेश प्रजापति के बाद सिरमौरी बेटे निपुण जिंदल ने संभाला DC कांगड़ा का पदभार

ऐसे में शिकायतकर्ता ने होशियारी दिखाते हुए इस सारी बातचीत को अपने मोबाइल फोन पर रिकॉर्ड कर लिया। बताया जा रहा है कि मामले के आरोपी ने शिकायतकर्ता को पैसे देने के लिए झंडुता बुलाया हुआ था। सतर्कता विभाग ने पटवारी को रंगे हाथ पकड़ने के लिए जाल बिछाया। आरोपी ने शिकायतकर्ता को झंडुता तहसील की तरफ बुलाया था। विजिलेंस की टीम ने इस क्षेत्र में अपनी टीम का जाल बिछा दिया हुआ था। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: DC-IAS तो बदल दिए; अब होगा कई जिलों के SP-ASP और DSP का तबादला, तैयारी शुरू

शिकायतकर्ता जब तहसील परिसर के सीमावर्ती सड़क पर पहुंचा तो पटवारी वहां पर मौजूद था। शिकायतकर्ता ने जैसे ही रिश्वत की राशि पटवारी को सौंपी विजिलेंस की टीम ने पटवारी को रंगे हाथों दबोच लिया। विजिलेंस की टीम ने पटवारी के पास से 40 हजार रुपए भी बरामद कर लिए। जानकारी के अनुसार पटवार वृत्त झबोला में कार्यरत पटवारी पंकज कुमार झंडुता के गांव वांडा का रहने वाला है। यह पटवारी अभी तक अनुबंध पर ही अपनी सेवाएं दे रहा था।

Post a Comment

0 Comments