CM के गृह जिले में बंट गए प्राइवेट बस संचालक: आधे सरकार के साथ-आधों की हड़ताल जारी

Ticker

6/recent/ticker-posts

CM के गृह जिले में बंट गए प्राइवेट बस संचालक: आधे सरकार के साथ-आधों की हड़ताल जारी


मंडी।
हिमाचल प्रदेश में आज से लगभग महीने भर से अधिक समय के बाद सूबे के भीतर बसों का संचालन शुरू हुआ। ऐसे में आज जहां सूबे के हजार से अधिक रूटों पर परिवहन निगम की बसों का संचालन किया गया। वहीं, प्रदेश सरकार द्वारा तमाम मांगों को मान लेने के बावजूद भी सूबे में प्राइवेट बसों का संचालन नहीं शुरू हो सका। गौरतलब है कि प्रदेश में कोविड कर्फ्यू का ऐलान किए जाने के पहले से ही प्राइवेट बस संचालक अपनी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे हुए हैं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: दूसरी मंजिल पर काम कर रहे लेबर का बिगड़ा बैलेंस, नीचे गिरा-मर गया

इसी कड़ी में प्रदेश के मंडी जिले से सामने आ रही ताजा अपडेट के अनुसार, यहां पर प्राइवेट बस संचालकों का प्रोटेस्ट दो फाड़ हो गया है। इसमें से एक गुट जहां सरकार ने समर्थन में आकर आज से बसों को लेकर रूट पर चलने लगा है। वहीं, दूसरा गुट अभी सरकार के खिलाफ हड़ताल पर बैठा हुआ है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: बिजली के खंभे पर नायलॉन की बेल्ट डाल लटक गया 17 वर्षीय किशोर, नहीं बचा

सोमवार को निजी बस यूनियन द्वारा अपनी मांगों को लेकर बसों को नहीं चलाने का फैसला लिया था, लेकिन कुछ निजी बस मालिक अपनी बसों को रूट पर भेज रहे हैं, जिसके चलते आज मंडी बस स्टैंड पर निजी बस यूनियन और निजी बस मालिकों के बीच तनातनी देखने को मिली।

यह भी पढ़ें: Jio का धमाका: लॉन्च किए 5 नए प्लान ; नहीं रहेगी डेली डाटा लिमिट, कई खास सुविधाएं भी

निजी बस यूनियन हिमाचल प्रदेश के उपाध्यक्ष वीरेंद्र गुलेरिया ने कहा कि आज मंडी बस स्टैंड में निजी यूनियन द्वारा औचक निरीक्षण किया गया। उन्होंने कहा कि कुछ निजी बस मालिक यूनियन के आदेशों के बाद भी मंडी जिला में अपनी बसों को चला रहे हैं और अपनी मनमानी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा जो 40 करोड़ रुपए का अनुदान ट्रांसपोर्टर सेक्टर को दिया गया है वह सिर्फ एक प्रलोभन है।

Post a Comment

0 Comments