हिमाचल: BJP नेता ने ठग से ठग लिए पांच रूपए; सेना का अधिकारी बता कर रहा था धोखाधड़ी

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: BJP नेता ने ठग से ठग लिए पांच रूपए; सेना का अधिकारी बता कर रहा था धोखाधड़ी

हमीरपुर: कड़कनाथ मुर्गे का व्यापार करने वाले के साथ सेना के नाम पर ठगी हो रही थी। नेता जी जाल में फंस ही गए थे लेकिन अंतिम समय में बुद्धि खुल गई और नेता जी ने ठग को ही पांच रूपए का चूना लगा दिया। मामला काफी दिलचस्प है। आइए जानते हैं क्या था पूरा मामला:

सेना का अधिकारी बन दिया 50 किलो मीट का आर्डर:

जिला हमीरपुर के भाजपा प्रवक्ता विशाल पठानिया कड़कनाथ मुर्गे का व्यापार भी करते हैं। सोमवार को उनके पास एक अज्ञात व्यक्ति का कॉल आया। कॉल करने वाले ने खुद को सेना का अधिकारी बताते हुए 50 किलोग्राम मीट का ऑर्डर दिया। साथ ही कहा कि राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला, बाल के समीप उनके जवान डेलिवरी ले लेंगे।

यह भी पढ़ें: 'हिमाचली लड़कियों' से जिस्म का धंधा कराने वाली दो महिलाएं अरेस्ट: कई बार बदल चुकी थीं ठिकाना

सेना का कथित अधिकारी शातिर ठग था। उसने पठानिया से कहा कि आप अपना पैन कार्ड व्हाट्सएप्प पर भेजें ताकि पुष्टि हो सके कि मेरी बात सही व्यक्ति से हो रही है। पठानिया ने अपना पैन कार्ड भेजा और फिर ठग ने भी अपना पैन कार्ड भेजा। जिस पर सेना की वर्दी में फोटो लगा हुआ था।

5 रूपए मांगे, वापस किए 10:

पहचान पुष्टि की प्रक्रिया होने के बाद ठग ने कहा कि आप मेरे गूगल पे नंबर पर पांच रूपया भेजें। फिर हम आगे की प्रक्रिया करेंगे। पठानिया ने तुरंत पांच रुपए भेज दिए। जिसके जवाब में ठग ने उन्हें 10 रूपए भेज दिए। यानी, दुगुने पैसे वापस किए। पांच रूपए के बदले 10 रूपए वापस किए।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में मौसम का बड़ा अलर्ट: अभी 14 तक भारी बारिश, 18 जुलाई तक खराब रहेगा मौसम

जाल बिछाने की सभी प्रक्रिया होने के बाद ठग ने अपना असली दांव खेला और कहा सेना का नियम है कि जितने का आर्डर हम देते हैं। दूकानदार को उसका आधा पैसा सेना के खाता में एडवांस जमा करवाना होता है। 

आप आधा 50 किलो मीट का हाफ पेमेंट 9,250 रूपए भेजें। विशाल पठानिया का दिमाग ठनका और उन्होंने पेमेंट करने से इंकार कर दिया और मामले की जानकारी तुरंत पुलिस को दी।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: शिमला में 3 मंजिला मकान ढेर, ल्हासा में दबे लोग- पावर प्रोजेक्ट तबाह: मौजूद थे 13 लोग!

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हमीरपुर ने मामले की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि शिकायतकर्ता ठगी की शिकार होने से बच गया है। उलटा उसने ठग को पांच रूपए का चूना लगा दिया है। पैन कार्ड और कॉल डिटेल्स के आधार पर मामले की जांच की जा रही है।

Post a Comment

0 Comments