हिमाचल में माता चिंतपूर्णी के बाद अब देव मूल माहूंनाग के 'बर्थडे' पर काटा केक, VHP भड़की

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल में माता चिंतपूर्णी के बाद अब देव मूल माहूंनाग के 'बर्थडे' पर काटा केक, VHP भड़की


मंडीः
हिमाचल प्रदेश में कुछ महीने पहले विश्व प्रसिद्ध शक्तिपीठ माता छिन्नमस्तिका के मंदिर परिसर में केक काट कर उनकी जयंती मनाई गई थी। जिसका विरोध हिंदू समाज के तमाम संगठनों ने किया था और इस पर कड़ा एक्शन लेने की बात कही थी। इतना ही नहीं सनातन धर्म के लोगों ने इस बात की निंदा भी की थी। केक काटने जैसी परंपरा का हिंदू धर्म में कोई प्रचलन नहीं है लेकिन इसके बावजूद मंदिर परिसर में इस तरह के कृत्य देखने को मिल रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में ठगी: पहले खाना आर्डर किया, फिर ATM की फोटो मांगी-फिर पिन, 1.70 लाख साफ़

इसी कड़ी में एक बार फिर प्रदेश के मंडी जिले में करसोग के मूल माहूंनाग देव की जंयती पर भी कुछ ऐसा ही कारनामा देखने को मिला। जहां जयंती पर मंदिर परिसर पर केक काटा गया। जिस पर विश्व हिंदू परिषद के प्रदेशाध्यक्ष लेख राज राणा ने कहा कि प्रदेश में जिस तरह से देवी देवताओं का अपमान किया जा रहा है ये हिंदू समाज के लिए शर्मसार कर देने वाली बात है। इस प्रकार के कृत्य का विश्व हिंदू परिषद हिमाचल प्रदेश कड़ी आलोचना करता है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में बीच सड़क पर टकरा गईं पंजाब और हरियाणा की गाडियां: सवार थे चार लोग

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि इससे पहले भी पुजारियों द्वारा चिंतपूर्णी धाम में इसी तरह का कारनामा किया गया था जो हिन्दू समाज के लिए अशोभनीय है। एक तरफ हिंदू समाज विधर्मी जिहादियों और धर्मांतरण में लगे ईसाइयों से जूझ रहा है। तो दूसरी तरफ हिंदू देवी देवताओं की सेवा में लगे पुजारी गुर देव परंपराओं को ठेंगा दिखा कर केक काट कर देवी-देवताओं के जन्मदिन मनाने वाली ईसाई परंपरा को प्रोत्साहन दे रहे हैं। ऐसी मानसिकता वाले लोगों को देव समाज बाहर का रास्ता दिखाए। 

Post a Comment

0 Comments