महल के बाहर पेड़ पर लटकाई गई राजा साब की अस्थि कलश; विक्रमादित्य लेकर जाएंगे हरिद्वार

Ticker

6/recent/ticker-posts

महल के बाहर पेड़ पर लटकाई गई राजा साब की अस्थि कलश; विक्रमादित्य लेकर जाएंगे हरिद्वार

शिमला: पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के निधन के बाद उनके क्रिया-कर्म की रस्में निभायी जा रही हैं। रामपुर के जोबनी बाग मोक्ष धाम स्थित राज परिवार के श्मशानघाट में सोमवार को ने वीरभद्र सिंह की अस्थियों को उठाया गया। इस दौरान पुत्र विक्रमादित्य समेत परिवार के अन्य लोग मौजूद थे।

विक्रमादित्य जाएंगे हरिद्वार:

जोबनी बाग से लौटने के उपरांत अस्थियों की मुख्य कलश को विक्रमादित्य सिंह राज दरबार परिसर लाए।जहां अस्थि पूजन के बाद उसे महल के साथ लगते पेड़ पर लटकाया गया। राज परिवार से मिली सूचना के अनुसार, विक्रमादित्य सिंह अपने स्वजनों ने संग 16 जुलाई को हरिद्वार के लिए रवाना होंगे और 17 जुलाई को वहां से लौटेंगे। इसके बाद 18 जुलाई को राज दरबार में आयोजित होने वाली पूजा में भाग लेंगे।

गंगा समेत पूरे प्रदेश में एक साथ होगा विसर्जन:

बता दें कि गंगा में विसर्जन 17 जुलाई को किया जाएगा और उसी समय अन्य स्थानों पर भी अस्थियां विसर्जित की जाएंगी।  रामपुर से इन कलशों को भी 16 जुलाई को 68 विधानसभा क्षेत्रों के 71 ब्लाक में पहुंचाया जाएगा। गंगा में विसर्जन के समय ही पूरे प्रदेश के हर क्षेत्र में भी विसर्जन होगा। संबंधित क्षेत्रों के कांग्रेस पदाधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल वीडियो वायरलः NDRF की टीम ने कर दिखाया ऐसा कारनामा हर कोई कर रहा तारीफ

एक मुख्य कलश के साथ 74 और भी कलश बनाए गए हैं, जिन्हें दरबार परिसर में रखा गया है। इसके बाद ये अस्थियां गंगा, चंद्रभागा सहित विभिन्न झीलों में विसर्जित की जाएंगी। मुख्य कलश को लेकर परिजन हरिद्वार जाएंगे। जिसे अभी महल के बाहर पेड़ पर लटकाया गया है। वहीं, अन्य 74 कलश को 15 जुलाई को राजीव भवन में विशेष प्रार्थना सभा के बाद कांग्रेस नेताओं को सौंप दिया जाएगा, जो अपने-अपने क्षेत्र में विसर्जन करेंगे।

Post a Comment

0 Comments