सुनो सरकार: दिल्ली-पंजाब को बिजली बेचकर क्या मिला, जब 30 साल से अपनों को नहीं दे सके

Ticker

6/recent/ticker-posts

सुनो सरकार: दिल्ली-पंजाब को बिजली बेचकर क्या मिला, जब 30 साल से अपनों को नहीं दे सके


मंडीः
हिमाचल प्रदेश एक ऐसा राज्य है जो पंजाब, हरियाणा, दिल्ली समेत कई राज्यों को बिजली मुहैया करवाता है। लेकिन सूबे में अभी भी कुछ ऐसे घर मौजूद हैं जहां बिजली की कोई सुविधा नहीं है। इसी कड़ी में मंडी जिले के द्रंग विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आती ग्राम पंचायत टिहरी के गांव तांदी में अभी भी एक ऐसा परिवार रहता है जो पिछले 30 वर्षों से बिजली के बिना ही जीवन यापन कर रहा है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: इस जोड़े को भगवान ने दी ट्रिपल खुशियां, दो बेटियों और एक बेटे का साथ में हुआ जन्म

यूं तो प्रदेश सरकार दावा करती है कि राज्य में कोई भी घर बिना बिजली के नहीं है। लेकिन जब ग्राउंड लेवल पर नजरें घुमाई जाती है, तो कहानी कुछ और ही देखने को मिलती है। जानकारियों की मानें तो किशन चंद का यह परिवार बीपीएल श्रेणी में शामिल है। इस परिवार की आर्थिक स्थिति इतनी खराब है कि ये बिजली के कनेक्शन के लिए सिक्योरिटी मनी भी जमा नहीं करवा सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: खाने के लिए बुलाने गई पत्नी तो पति को लटका पाया, पीछे एक बेटी भी छोड़ गया

क्या कहा परिवार की मुखिया ने-

इस परिवार की मुखिया दोपाली देवी ने जानकारी देते हुए बताया कि उन्हें बताया गया था कि बिजली कनेक्शन के लिए सिक्योरिटी के रूप में 3 से 4 हजार रुपए जमा करवाने होंगे। जिसकी वजह से उन्होंने कनेक्शन नहीं लिया। वहीं, इस बारे में उनके बेटे किशन चंद ने जानकारी देते हुए बताया कि बिजली कनेक्शन के लिए आज दिन तक उनकी किसी ने कोई मदद नहीं की, यहां तक कि पंचायत ने भी नहीं। 

गरीबी के कारण नहीं पढ़ पा रहा है बेटा-

किशन चंद के इस परिवार में चार सदस्य हैं। जिसमें किशन चंद,  71 वर्षीय दोपाली देवी (बूढ़ी मां), एक दिव्यांग बेटी और एक बेटा है। किशन चंद की पत्नी का काफी समय पहले देहांत हो चुका है। जानकारियों की मानें तो किशन चंद की बेटी मानसिक रूप से बीमार है। इतना ही नहीं उनका बेटा भी गरीबी के कारण आगे पढ़ नहीं पा रहा है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में माता चिंतपूर्णी के बाद अब देव मूल माहूंनाग के 'बर्थडे' पर काटा केक, VHP भड़की

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि 30 साल पहले उसके पिता को पंचायत की तरफ से घर बनाने के लिए जो पैसे मिले थे, उन पैसों से उस वक्त कच्चा मकान बनाया गया था। उसी मकान में यह परिवार जीवन यापन कर रहा है। पंचायत की तरफ से कुछ समय पहले शौचालय निर्माण करके दिया गया है, लेकिन पक्के मकान के लिए पैसा नहीं मिल पाया है। 

बीडीसी ने सरकार से लगाई मदद की गुहार-

इस मामले पर क्षेत्र के बीडीसी सदस्य परमा नंद ने सरकार से इस परिवार के लिए मदद की गुहार लगाई है। परिवार की खराब स्थिति को देखते हुए बिजली का कनेक्शन निशुल्क मुहैया करवाया जाए और पक्के घर के लिए भी जल्द पैसा दिया जाए।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में बीच सड़क पर टकरा गईं पंजाब और हरियाणा की गाडियां: सवार थे चार लोग

विद्युत विभाग ने कहा की  मुख्यमंत्री रोशनी योजना के तहत परिवार को मिलेगी बिजली-

वहीं जब इस मामले में विद्युत विभाग के वरिष्ठ अधिशाषी अभियंता ई मनोज पूरी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मीडिया के माध्यम ये यह मामला उनके ध्यान में आया है। परिवार को जल्द ही बिजली का कनेक्शन दिलाया जाएगा और विभाग उक्त परिवार की हर संभव मदद करेगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने ऐसे परिवारों के लिए मुख्यमंत्री रोशनी योजना चला रखी है और इस योजना के तहत इस परिवार को कनेक्शन मुहैया करवाया जाएगा।

Post a Comment

0 Comments