हिमाचल कांग्रेस का नेता कौन? राहुल गांधी से मिलने दिल्ली दरबार पहुंचे कौल-सुक्खू और आशा कुमारी

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल कांग्रेस का नेता कौन? राहुल गांधी से मिलने दिल्ली दरबार पहुंचे कौल-सुक्खू और आशा कुमारी

शिमला/कांग्रेस: हिमाचल कांग्रेस के सभी नेता अपनी अपनी ताकत को मजबूत करने में लगे हैं। इसी चक्कर में सभी वरिष्ठ नेता दिल्ली दरबार में पहुंच गए हैं। वहीं, विक्रमादित्य सिंह सोशल मीडिया पर इशारों की राजनीति कर रहे हैं।

कौल-सुक्खू दिल्ली में, बाली घूम आए:

बता दें कि इस समय पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष कौल सिंह ठाकुर, सुखविंदर सिह सुक्खू दो दिन से दिल्ली में डटे हैं। वहीं, राम लाल ठाकुर भी दिल्ली पहुंच चुके हैं, जिन्होंने भी राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा है। आशा कुमारी भी प्रदेश के मामलों को लेकर हाईकमान से मिलने की कोशिशों में हैं। रामलाल ठाकुर ने राहुल गांधी को अप्वांयटमेंट के लिए पत्र लिखा है।

यह भी पढ़ें: नैना देवी को आतंकवादियों ने बताया खालिस्तानी क्षेत्र, दीवारों पर लिख दिए जिंदाबाद के नारे

जीएस बाली और कुलदीप सिंह राठौर दिल्ली दौरा कर आए हैं। कुलदीप राठौर की राजीव शुक्ल से मुलाक़ात भी हुई थी। सूत्रों की मानें तो कौल सिंह ठाकुर और सुखविंदर सिह सुक्खू की पवन बंसल से मुलाक़ात हुई है। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव वेणुगोपाल से भी मुलाकात होने की खबर है। वहीं, जल्द ही इनकी मुलाकात राहुल गाँधी से भी होनी है।

हिमाचल कांग्रेस का अगला नेता कौन?

सभी कि नजरें टिकी हैं कि वीरभद्र के बाद अगला नेता कौन होगा? सामने उपचुनाव है और फिर विधानसभा चुनाव। कांग्रेस को जल्द से जल्द अपना नेता चुनना होगा। वह भी ऐसी परिस्थिति में जब सभी नेता बनने जुगत में लगे हैं। मंडी संसदीय क्षेत्र की आज बैठक थी। अध्यक्षता मुकेश अग्रिहोत्री कर रहे थे। कौल-सुक्खू नहीं पहुंचे दिल्ली में होने की वजह से।

मुकेश नहीं कह पाए विक्रमादित्य ने पोस्ट कर कह दी:

वहीं, मीडियाकर्मी पूछते रह गए कि मंडी लोकसभा से कौन होगा उम्मीदवार? लेकिन वह कुछ भी बोलने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। वहीं, कुछ हो घंटों में विक्रमादित्य सिंह ने साफ़ कर दिया कि वह चाहते हैं कि उनकी मां प्रतिभा सिंह चुनाव लड़ें। साफ़ है कि कहीं-न-कहीं सीट बंटवारे को लेकर भी आलाकमान-वरिष्ठ नेता और क्षेत्रीय नेताओं की गठजोड़ नहीं बन पा रहा है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: स्कूल खुलने को लेकर SOP जारी, शिक्षक-छात्रों को इन नियमों का करना होगा पालन

कांग्रेस में एक दूसरा धरा वह भी है जिनकी मांग है कि संगठन में नेतृत्व परिवर्तन किया जाए। कुछ अन्य नेताओं का मानना है कि पहले सर्वमान्य नेता बनाया जाए या फिर अध्यक्ष को हटाया जाए।

Post a Comment

0 Comments