हिमाचल: मजदूरों की जीप हुई थी भूस्खलन का शिकार, नींद में ही छिन गई चारों की जिंदगी

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: मजदूरों की जीप हुई थी भूस्खलन का शिकार, नींद में ही छिन गई चारों की जिंदगी


मंडी।
हिमाचल प्रदेश में मौसम, बारिश, बाढ़, बादल फटने की घटनाओं और भूस्खलन के हादसों ने लोगों की जिंदगी को खतरे में डाल दिया है। इस साल हिमाचल में केवल मानसून की वजह से अबतक 200 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। बीते कल का दिन भी हिमाचल के काफी बुरा गुजरा, प्रदेश के अलग-अलग जिलों में हादसों में लगभग एक दर्जन से अधिक लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी, जिनमें से कई सारे लोग अभी भी लापता बताए जा रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: CM जयराम के आवास के पास हुआ लैंडस्लाइड: 4 भवनों को खतरा, रेस्‍क्‍यू किए गए 35 लोग

इसी कड़ी में लाहुल स्पीति के थोलंग गांव में हुए भीषण भूस्खलन की चपेट में आने से मंडी की ग्राम पंचायत टकोली के चार लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी। मिली जानकारी के अनुसार टकोली पंचायत के दो ठेकेदारों देशराज और योगराज ने पांगी भरमौर में रोप-वे की लाइन बिछाने का काम ले रखा था। इसके लिए देशराज 6 लोगों के साथ टकोली से पांगी भरमौर के लिए रवाना हुआ।

यह भी पढ़ें: हिमाचल जल प्रलय: बिजनस पार्टनर को तो बचा लिया पर खुद नहीं बचीं विनिता, आज ही लौटना था..

बताया गया कि भारी बारिश के कारण ये लोग थोलंग गांव के पास पर रूक गए। इसी बीच इनकी गाड़ी भूस्खलन की चपेट में आ गई। गाडी में सवार तीन लोग जिनमें, ठेकेदार देश राज, होतम चंद और तेज राम भाग कर अपनी जान बचाने में कामयाब हो गए लेकिन शेर सिंह, रूम सिंह, मेहर चंद और नेरत राम की मलबे में दबने से मौत हो गई। 

यह भी पढ़ें: थप्पड़ मामले पर HRTC ने लिया एक्शन; कंडक्टर को किया गया चार्जसीट

बतौर रिपोर्ट्स, घटना के वक्त ये सभी गाड़ी में सो रहे थे। एक का शव बुधवार को पहुंच गया था जिसका कल ही अंतिम संस्कार किया गया था जबकि तीन शव आज सुबह गांव पहुंचे और उनके अंतिम संस्कार किए गए। पंचायत प्रधान सुंदर सिंह ने बताया कि घटना से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर है।

Post a Comment

0 Comments