हिमाचल का जवान हुआ बारूदी सुरंग का शिकार: तीन महीने बाद ही होनी थी शादी

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल का जवान हुआ बारूदी सुरंग का शिकार: तीन महीने बाद ही होनी थी शादी


हमीरपुरः
हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले से जुडी एक बड़ी दुखद खबर सामने आ रही है। जहां जिले स्थित ग्राम पंचायत लगमनवी के गांव घुमारली का रहने वाला एक 27 वर्षीय जवान अचानक से बारूदी सुरंग फटने की चपेट में आकर शहीद हो गया। यह हादसा केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के पुंछ में पेश आया। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल वायरल वीडियो: उफनाते नाले में फंसी पर्यटकों से भरी कार, भागकर बचाई जान

बताया जा रहा है कि जवान की तीन महीने बाद यानी अक्तूबर महीने में शादी होनी तय हुई थी। इसलिए घर में शादी की तैयारियां भी चल रही थी। लेकिन भगवान को तो कुछ और ही मंजूर था। 


बता दें कि शहीद जवान अपने पीछे माता-पिता, बड़ा भाई और दो बहनों को छोड़ गया है। मिली जानकारी के मुताबिक उक्त शहीद जवान कमल वैद्य डोगरा रेजिमेंट में तैनात था। बतौर रिपोर्टस, शहीद जवान अप्रैल महीने में अपनी छुट्टियां काटकर ड्यूटी पर वापस लौटा था।

यह भी पढ़ें: हिमाचल वायरल वीडियो: उफनाते नाले में फंसी पर्यटकों से भरी कार, भागकर बचाई जान

कमलदेव वर्ष 2015 में हमीरपुर में 15 डोगरा में भर्ती हुए थे। पहली से दसवीं की पढ़ाई लुद्दर महादेव स्कूल में हुई, जबकि जमा दो तक की पढ़ाई सीनियर सेकेंडरी स्कूल भोरंज में हुई। कालेज में दाखिला लिया था, लेकिन इस दौरान वह सेना भी भर्ती हो गए थे।

शहीद कमल देव के पिता मदन लाल दिहाड़ी मजदूरी करते हैं तथा माता वनीता देवी गृहणी हैं। 32 वर्षीय बड़े भाई देवेंद्र कुमार ने होटल मैनेजमेंट डिप्लोमा किया है तथा घर पर ही है। दो बहनें इंदूबाला व शशिवाल हैं, जिनकी शादी हो चुकी है। शहीद कमलदेव को गाने का भी काफी शौक था व वह अकसर कार्यक्रमों में माहौल खुशनुमा बना देते थे।


शहीद की पार्थिव देह आज शाम साढ़े तीन बजे हेलिकाप्‍टन के माध्‍यम से आइआइटी हमीरपुर के मैदान में पहुंचेंगी। इसके बाद कुछ देर में घर में रखने के बाद साढ़े चार बजे के करीब शहीद का अंतिम संस्‍कार कर दिया जाएगा।

Post a Comment

0 Comments