वीर-ए-हिमाचल: दूल्हे की तरह सजाया फिर हुई शहीद कमल देव की विदाई, अक्टूबर में थी शादी

Ticker

6/recent/ticker-posts

वीर-ए-हिमाचल: दूल्हे की तरह सजाया फिर हुई शहीद कमल देव की विदाई, अक्टूबर में थी शादी

हमीरपुर। बीते कल खबर सामने आई थी कि जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले के मनकोट सेक्टर में नियंत्रण रेखा के समीप बारूदी सुरंग फटने से हमीरपुर का जवान शहीद हो गया। ये जवान थे छह साल पहले भारतीय सेना की 15 डोगरा रेजिमेंट में भर्ती 27 वर्षीय कमल देव। जिनको विदाई देते वक्त हर आंख नम थी, बेटे की पार्थिव देह माता-पिता के सामने थे। गांव का हर व्यक्ति शहीद के अंतिम दर्शनों के लिए आया हुआ था। 

यह भी पढ़ें: HRTC कर्मियों ने वापस लिया हड़ताल; परिवहन मंत्री वार्ता को हुए तैयार; चलेंगी बसें


अंतिम यात्रा पर निकलने से पहले कमल देव के परिजनों ने शादी की रस्मों को निभाया। बड़े भाई ने दुल्हे के कपड़े भेंट किए। कमल के सिर पर सेहरा बांधने की तैयारी की गई। उसके बाद कमल अंतिम यात्रा पर रवाना हो गए। बता दें कि कमल के अविवाहित होने के कारण परिजनों ने शादी की सभी रस्में निभाई। इसी साल अक्तूबर में उनकी शादी तय थी। माता-पिता बेटे के सिर पर सेहरा भी नहीं सजा सके। शहीद कमलदेव अपने पीछे माता-पिता, बड़ा भाई और दो बहनें छोड़ गए हैं। 


यह भी पढ़ें: हिमाचल: चलती कार पर बरसने लगे पत्थर, ड्राइवर की होशियारी ने बचा ली पूरे परिवार की जिंदगी

बताया गया कि कमल इसी साल अप्रैल में वह घर पर छुट्टियां काटने के बाद वापस अपनी बटालियन में गए थे। इससे पूर्व शहीद कमल देव की पार्थिव देह हमीरपुर में पैतृक गांव पहुंचते ही जब तक सूरज चांद रहेगा शहीद कमल का नाम रहेगा और देखो देखो कौन आया शेर आया शेर आया के  नारे लगे। पार्थिव देह घर पर पहुंचते ही माहौल गमगीन हो गया। शहीद का मोक्ष धाम में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। 


Post a Comment

0 Comments