बाथरूम में बेसुध पड़े मिले हिमाचली जावन की टूटी सांसें- 10 दिन पहले ही घर से लौटा था

Ticker

6/recent/ticker-posts

बाथरूम में बेसुध पड़े मिले हिमाचली जावन की टूटी सांसें- 10 दिन पहले ही घर से लौटा था


शिमला।
हिमाचल प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले सेना के एक जवान का आकस्मिक निधन हो गया है। मृतक जवान राजधानी शिमला के अंतर्गत आते उपमंडल चौपाल तहसील नेरवा व गांव थरोच का रहने वाला था। मृतक जवान का नाम हर्ष पोटन था, जो दस दिन पहले ही छुट्टी काट कर मध्यप्रदेश ड्यूटी पर गया था। हर्ष के निधन की खबर सामने आने के बाद उसके परिवार और पूरे इलाके में मातम पसर गया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: भरी सभा में बोले BJP विधायक- सरकार बनने पर चेयरमैन तो दूर संतरी तक नहीं बनाया

बतौर रिपोर्ट्स, रविवार रात करीब पौने बारह बजे संधीरा को हर्ष के एक साथी का फोन आया व उसने अपना परिचय देते हुए बताया कि वह उसका साथी सूबेदार बोल रहा है। उसने बताया कि हम सभी साथी अपने कमरे में बैठ कर फ्रूट खा रहे थे, इस दौरान हर्ष बाथरूम में चला गया व जब वह काफी देरी तक बाहर नहीं निकला तो उन्होंने बाथरूम का दरवाजा खोल कर देखा तो पाया कि हर्ष अंदर बेसुध गिरा पड़ा है। वह उसे अस्पताल लेकर गए, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: फलों से लदी पिकअप और कार में टक्कर- खाई में गिरी टैक्सी, चार पहुंचे अस्पताल

हालांकि, अभी तक इस मसले को लेकर सरकार व स्थानीय प्रशासन की तरफ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। यह जानकारी परिजनों से प्राप्त हुई थी। बताया जा रहा है कि हर्ष सेना में लिपिक का कार्य देखता था। बतौर रिपोर्ट्स, हर्ष के पिता केवल राम पोटन का निधन तीन वर्ष पहले हो चुका है और माता कांता देवी पोटन जब हर्ष 14 दिन का था तब उनकी मृत्यु हो गई थी। चाचा हेत राम पोटन और चाची देवकू ने हर्ष की परवरिश की थी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में बारिश-भूस्खलन: सैकड़ों सड़कें बंद- कार पर गिरी चट्टानें, आवाजाही बंद, पर्यटक फंसे

मिली जानकारी के अनुसार हर्ष पदोन्नति से पूर्व अपने गांव सगे संबंधियों से मिलने आया था। वह सिपाही से हवलदार के पद पर पदोन्नत हुआ था और कुछ ही दिनों में ट्रेनिंग पर जाना था। शनिवार शाम को मौत से दो दिन पूर्व गांव में भाभी संधीरा को फोन कर पूरे परिवार का हालचाल पूछा था। वह बहुत ही मिलनसार और हंसमुख स्वभाव का था, जब भी वह घर आता था गांव में सबसे जरूर मिलता था। वहीं, अब हर्ष के निधन के बाद पूरे गांव में मातम पसर गया है। 

Post a Comment

0 Comments