हिमाचल: भरी सभा में बोले BJP विधायक- सरकार बनने पर चेयरमैन तो दूर संतरी तक नहीं बनाया

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: भरी सभा में बोले BJP विधायक- सरकार बनने पर चेयरमैन तो दूर संतरी तक नहीं बनाया


सोलनः
हिमाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है। ऐसे में पार्टी से जुडे़ नेताओं को इस बात की उम्मीद रहती है कि अगर सत्ता में उनकी पार्टी के नेता राज कर रहै हैं तो उन्हें भी इस दौरान आदर और सत्कार मिलेगा। लेकिन हिमाचल बीजेपी के पूर्व विधायक रहे गोविंद राम शर्मा द्वारा इस बात का आरोप लगाया गया है कि वे अपनी पार्टी में उपेक्षा का शिकार हुए हैं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: खेत में बाड़ लगा रही 73 वर्षीय महिला हाई वोल्टेज लाइन की चपेट में आई, हालत खराब

दाड़लाघाट में अर्की कल्याण संस्था के सम्मेलन में शामिल होने पहुंचे पूर्व विधायक गोविंद राम शर्मा ने मंच पर से वर्ष 2017 में अपने साथ हुई नाइंसाफी का दर्द वयां किया। पूर्व विधायक का कहना है कि उनका टिकट एक षड्यंत्र के तहत काटा गया था। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में उनका टिकट कटने के बाद सरकार बनने पर कैबिनेट रैंक का चेयरमैन बनाने का वायदा किया गया था लेकिन उन्हें चेयरमैन तो दूर संतरी तक नहीं बनाया गया। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: होटल में रुका था 30 वर्षीय शख्स, पंखे से लटका मिला- काम की तलाश में आया था

गोविंद राम शर्मा ने कहा कि तत्कालीन भाजपा प्रदेश प्रभारी मंगल पांडे ने उनसे शिमला में कई नेताओं की उपस्थिति में यह वायदा किया था लेकिन सरकार बनने के बाद यह आज तक पूरा नहीं हुआ। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि मेरी बीमारी को लेकर कई तरह की अफवाहें उड़ाई गईं। यहां तक कहा गया कि वह कैंसर से पीड़ित हैं, कभी भी कुछ हो सकता है, जो उनके टिकट कटने का सबसे बड़ा कारण बना। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: भूस्खलन की चपेट में आई कार नदी में डूबी, पति-पत्नी व बेटा थे सवार- तीनों मरे

उन्होंने हमेशा ही पार्टी को अपनी मां समझा है जब उनका टिकट कटा तो बिना किसी विरोध के पार्टी प्रत्याशी के प्रचार में लग गए जबकि उनके समर्थक चाहते थे कि मैं निर्दलीय चुनाव लडूं क्योंकि मैं लगातार दो बार चुनाव जीता था। यदि वर्ष 2017 में उनका टिकट नहीं कटता तो वे चुनाव जीतते और प्रदेश में कैबिनेट मंत्री बनते क्योंकि जिले में वह ही सबसे वरिष्ठ नेता हैं। उन्होंने कहा कि अर्की में पार्टी कार्यकर्ताओं की अनदेखी हो रही है। पुराने नेताओं को किनारे लगाया जा रहा है। गोविंद राम ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं का मानना है कि मुझे चुनाव लडना चाहिए। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में बारिश-भूस्खलन: सैकड़ों सड़कें बंद- कार पर गिरी चट्टानें, आवाजाही बंद, पर्यटक फंसे

वहीं, उन्होंने कहा कि अपने कार्यकर्ताओं का सम्मान करते हुए वह इस बार टिकट के लिए अपना दावा ठोकेंगे। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद ही नहीं बल्कि विश्वास है कि पार्टी मुझे ही विधानसभा का टिकट देगी और भाजपा यहां से चुनाव जीतने में कामयाब होगी। उन्होंने कहा कि 10 वर्ष के विधायक काल में अर्की का अथाह विकास किया है। जिसका उन्हें उपचुनाव में लाभ मिलेगा। उन्होंने हिमको के अध्यक्ष व भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष पर भी कई निशाने साधे।

Post a Comment

0 Comments