हिमाचल के इस पहाड़ी गायक ने शादी नहीं कमाल किया है: दो गांव की 200 साल पुरानी दुश्मनी का अंत

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल के इस पहाड़ी गायक ने शादी नहीं कमाल किया है: दो गांव की 200 साल पुरानी दुश्मनी का अंत


शिमला।
कहतें है कि मोहब्बत अगर जोर की हो तो सालों साल पुरानी दुश्मनी को दोस्ती में बदल सकती है। सुनने और कहने में तो यह बात फ़िल्मी सी लगती है लेकिन इस असल जिंदगी में सही साबित किया है हिमाचल प्रदेश के एक पहाड़ी गायक ने। पारंपरिक पहाड़ी गीत गाने वाले चिराग ज्योति मजटा ने 22 जुलाई को अपनी दोस्त विदुषी सुंटा के साथ शादी कर दो गांवों की करीब 200 साल पुरानी दुश्मनी की परत को पिघला दिया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: हाल ही में विदेश से आया था पति- फंदे से झूल गई पत्नी, पीछे छोड़ गई दो मासूम बच्चे

यह मामला सामने आया है प्रदेश की राजधानी शिमला के अंतर्गत आते रोहडू क्षेत्र से। बता दें कि रोहड़ू का करासा चिराग का पैत्रिक गांव है, जबकि विदुषी रोहडू नावर के खलावन से ताल्लुक रखती हैं। करासा और नावर खलावन नामक इन दोनों गांवों के बीच करीब 200 साल से पुश्तैनी दुश्मनी चल रही थी। दोनों गांव के लोग एक-दूसरे से किसी भी तरह का कोई भी संबंध नहीं रखते थे। वहीं, अब इस शादी के बाद दोनों गांवों की दुश्मनी खत्म हो गई। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में 2 अगस्त से खुलेंगे स्कूल: जानें क्या होंगे छात्रों के लिए नियम- SOP आउट!

चिराग और विदुषी के विवाह से पुश्तैनी बैर खत्म हो गया है। इलाके के लोग उम्मीद कर रहे हैं कि अब दोनों गांवों के बीच रिश्ते और बर्ताव सहज भाव से चल सकेगा। बता दें कि चिराग हाईकोर्ट में वकील हैं और विदुषी बंगलूरू और चंडीगढ़ की नामी कंपनियों में एचआर एक्जीक्यूटिव के पद पर कार्य कर चुकी हैं। बीते पांच सालों से दोनों एक-दूसरे के दोस्त हैं। चिराग के गाए जोउटा बढ़ाल, दूंदी और राजा भगत चंद जैसे गीत खासे लोकप्रिय हुए हैं।

राजाओं के जमाने में दोनों गांवों में हुआ खूनी संघर्ष

रोहड़ू के इन गांवों में 200 साल पहले खूनी संघर्ष हुआ था। इस दौरान राजाओं का राज हुआ करता था। इस संघर्ष में दर्जनों लोगों की जान चली गई थी। इसके बाद इन गांवों में आपसी संबंध खत्म हो गए थे। आजादी के बाद भी दोनों गांवों के रिश्ते बहाल नहीं हुए, लेकिन अब चिराग और विदुषी के विवाह ने सारी दुश्मनी खत्म कर दी।

Post a Comment

0 Comments