राजा कहने से विक्रमादित्य को हुई आपत्ति, कहा- सिर्फ मेरे नाम से बुलाएं

Ticker

6/recent/ticker-posts

राजा कहने से विक्रमादित्य को हुई आपत्ति, कहा- सिर्फ मेरे नाम से बुलाएं

शिमला: बुशहर राजवंश के 123वें राजा के रूप में गद्दी पर बैठे विक्रमादित्य सिंह को 'राजा' के संबोधन से आपत्ति है। उन्होंने अपील किया है कि मेरे नाम के आगे राजा नहीं लगाएं। बल्कि मेरे नाम से ही संबोधित करें।

खिताब दूरियां बना देती हैं:

विक्रमादित्य सिंह के फेसबुक पोस्ट के माध्यम से यह अपील की है। उन्होंने लिखा कि 'मेरा सभी से विनम्र निवेदन, मुझे केवल हमारे नाम विक्रमादित्य सिंह से ही संबोधित करें। मैं आप सब के साथ जुड़ा रहना चाहता हूं, और यह खिताब कहीं न कहीं दूरियां बना देती हैं।

बता दें कि वीरभद्र सिंह के निधन के बाद अंतिम संस्कार से पूर्व ही राज परिवार के परंपरा अनुसार उनके पुत्र विक्रमादित्य सिंह का राज्याभिषेक किया गया। 

यह भी पढ़ें: मेरे शरीर में भी वही खून जो राजा साहब के अंदर था; विक्रमादित्य का अर्की की जनता से संवाद

राज परिवार में यह परंपरा है कि राजा की गद्दी कभी खाली नहीं रह सकती है। इसलिए अंतिम संस्कार से पूर्व ही राज्याभिषेक किया गया।

Post a Comment

0 Comments