हिमाचल के दोनों लाल निकले अफगानिस्तान से बाहर: जल्द ही घर की चौखट पर रखेंगे कदम

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल के दोनों लाल निकले अफगानिस्तान से बाहर: जल्द ही घर की चौखट पर रखेंगे कदम

 



मंडी/शिमला
। अफगानिस्तान में 90 साथियों के साथ फंसा हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला का नवीन ठाकुर आखिरकर सकुशल बाहर निकल गया है। वहीं, शनिवार दोपहर को एक और राहत की खबर आई कि राहुल कुमार भी सुरक्षित बाहर निकल गया है। अफगानिस्तान में फंसा मंडी जिला का राहुल सिंह अपने साथियों के साथ दुबई पहुंच गया है। राहुल के पिता सेवानिवृत्त कर्नल बलवंत सिंह ने इसकी जानकारी दी। उन्‍होंने बताया कंपनी ने उन्‍हें काबुल एयरपोर्ट से एयर लिफ्ट किया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: स्कूटी सवार मामा-भांजे को रौंदकर भागा ट्रक, दोनों की गई जान- पकड़ा गया ड्राइवर

उनके साथ करीब 220 लोग थे, जिनमें अधिकतर भारतीय व नेपाल के थे। अब दुबई से राहुल अपने साथियों के साथ भारत लौटेंगे। इसके अलावा मंडी के नवीन भी अफगानिस्‍तान से निकल गए हैं। वह भी भारत आने की बजाय वे डेनमार्क पहुंचे। डेनमार्क से सभी लोग दिल्ली आएंगे। भारत सरकार की ओर से तीन दिन तक विमान न भेजे जाने के कारण वह काबुल एयरपोर्ट पर फंसे रहे। नवीन जिस कंपनी में नौकरी करता है, उसने ही विमान की व्‍यवस्था कर उन्‍हें डेनमार्क पहुंचाया।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: शराब पीकर बेटी के पास जा रहे थे पति-पत्नी, नदी के बहाव में बह गई महिला

अफगानिस्तान में तालिबान के नियंत्रण के बाद सैकड़ों भारतीय फंसे हुए हैं। काबुल एयरपोर्ट पर फंसे हिमाचल के नवीन समेत उसके 90 सार्थी शुक्रवार शाम छह बजे विशेष फ्लाइट से डेनमार्क के लिए रवाना हुए। देर रात वह वहां पहुंच गए व आज भारत के लिए रवाना होंगे। इनको काबुल से सुरक्षित निकालने की व्यवस्था डेनमार्क की कंपनी ने की। ये सभी लोग इसी कंपनी में काम करते थे। नवीन ठाकुर कंपनी में सुरक्षा अधिकारी के पद पर कार्यरत थे।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: 4 वरिष्ठ IAS अफसरों को मिला अतिरिक्त कार्यभार, ओंकार शर्मा को फिर मिला राजस्व विभाग

15 अगस्त को काबुल पर तालिबान का कब्जा होने के बाद इन लोगों ने भारतीय दूतावास में शरण ली थी। भारत सरकार ने सभी लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए विमान भेजने की बात कही थी। इसी उम्मीद के साथ नवीन कुमार अन्य साथियों के साथ 18 अगस्त को भारतीय दूतावास से कड़ी मशक्कत के बाद काबुल एयरपोर्ट पहुंचा था। विमान की व्यवस्था न होने से वह तीन दिन से एयरपोर्ट में ही फंसा था।

Post a Comment

0 Comments