हिमाचल में उपचुनाव: कभी भी किया जा सकता है ऐलान, आयोग ने दिए तैयारी पूरी करने के निर्देश

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल में उपचुनाव: कभी भी किया जा सकता है ऐलान, आयोग ने दिए तैयारी पूरी करने के निर्देश


शिमला।
हिमाचल प्रदेश में बीते कुछ दिनों से राजनीतिक माहौल काफी ज्यादा गरमाया हुआ है। इसके पीछे का मुख्या कारण है आगामी उपचुनाव। वहीं, अब इसी कड़ी में सूबे की तीन विधानसभा और एक लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव से जुडी हुई एक बड़ी अपडेट सामने आ रही है। दरअसल, एकी मीडिया रिपोर्ट के हवाले से इस बात का दावा किया गया है कि प्रदेश में किस भी वक्त उपचुनाव कराने का ऐलान चुनाव आयोग द्वारा किया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें: किन्नौर भूस्खलन के सातवें दिन पूरा हुआ सर्च ऑपरेशन: कुल 28 लोगों की देह हुई बरामद

सामने आ रही जानकारी के अनुसार भारतीय निर्वाचन आयोग ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय को ऐसे संकेत दिए हैं। बताया गया कि आयोग ने मुख्य चुनाव अधिकारी शिमला को इस संबंध में पहले से तैयारी करने के निर्देश दे दिए हैं। ऐसे में इस निर्देशों पर अमल करते हुए आयोग ने इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) का पहले चरण का निरीक्षण कर लिया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: पेड़ पर चढ़ा था 68 वर्षीय रिटायर्ड शख्स, फिसल कर गिरा- टूटा दम

सूत्रों द्वारा इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए बताया गया कि प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण पैदा हुई परिस्थितियां इसी तरह से सामान्य रहीं तो 20 अगस्त के बाद कभी भी उपचुनावों को लेकर आयोग द्वारा आचार संहिता लगाने और उपचुनाव की तारीखों का ऐलान किया जा सकता है। बता दें कि प्रदेश में मंडी संसदीय सीट पर लोकसभा के चुनाव होने हैं, जबकि फतेहपुर, जुब्बल-कोटखाई और अर्की में विधानसभा के चुनाव होने हैं। 

यह भी पढ़ें: 'कुलदीप राठौर के पास अध्यक्ष बनने के पहले कुछ नहीं था, मगर अब दो-दो नई गाडिय़ां हैं'

गौरतलब है कि मंडी में सांसद रामस्वरूप शर्मा की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के बाद यहां सांसद का पद खाली है। वहीं, फतेहपुर में पूर्व मंत्री और विधायक रहे सुजान सिंह पठानिया का छह महीने पूर्व देहांत हो गया, जिसके बाद यह हलका तो उपचुनाव के लिए निर्धारित समयसीमा को पार करने लगा है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में कोरोना जानलेवा: एक दिन 6 संक्रमितों की गई जान, नए मामलों से रिकवरी ज्यादा

इसी तरह से जुब्बल-कोटखाई में पूर्व मंत्री एवं बीजेपी विधायक रहे नरेंद्र बरागटा के देहांत के बाद यहां विधानसभा की सीट खाली हुई है। जबकि अर्की में हाल ही में पूर्व सीएम और कांग्रेस विधायक वीरभद्र सिंह के देहांत के बाद यह सीट रिक्त हुई है, जसी पर उपचुनाव का आयोजन किया जाना है। 

Post a Comment

0 Comments