हिमाचल में टलता ही जा रहा उपचुनाव: अब 30 के बाद ही होगा ऐलान- जानें पूरा माजरा

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल में टलता ही जा रहा उपचुनाव: अब 30 के बाद ही होगा ऐलान- जानें पूरा माजरा


शिमला। हिमाचल प्रदेश में तीन विधनासभा और एक लोकसभा की सीट पर उपचुनाव किया जाना है। इन चुनावों के चलते जहां बीते कुछ वक्त से सूबे की सियासत का पारा कुछ बढ़ा हुआ जा नजर आ रहा है। वहीं, दूसरी तरफ कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच उपचुनाव की तारीखों के ऐलान का इंतज़ार लम्बा होता चला जा रहा है। दरअसल, अब सामने आ रही ताजा अपडेट के अनुसार इस बात का पता चला है कि चुनाव के सम्बन्ध में आगामी ऐलान अब तीस आगस्त की तारिख बीत जाने के बाद ही संभव हो पाएगा। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: स्कूटी सवार मामा-भांजे को रौंदकर भागा ट्रक, दोनों की गई जान- पकड़ा गया ड्राइवर

दरअसल, अबतक जहां एक तरफ इस बात का अंदाजा लगाया जा रहा था कि इस महीने का अंत होते-होते चुनाव का ऐलान किया जाएगा। लेकिब अब पता चला है कि भारतीय निर्वाचन आयोग ने राज्य के सभी राजनीतिक दलों से 30 अगस्त तक एक जरूरी मसले पर राय मांगी है। चुनाव आयोग ने इन राजनीतिक दलों से पूछा है कि हिमाचल प्रदेश में उपचुनाव को किस तरह के दिशा-निर्देशों के साथ करवाया जाए। 

यह भी पढ़ें: एक दिन और HRTC की तीन बसों पर मंडराए संकट के बदल: दो जगह चालक बने जीवन रक्षक

ऐसे में अब स्पष्ट है कि सभी राजनीतिक दलों की तरफ से आई प्रतिक्रिया पर मंथन करने के बाद अपने हिसाब से 30 अगस्त के बाद ही चुनाव आयोग कोई ऐलान करेगा। बता दें कि प्रदेश बीजेपी चुनाव करवाने पर सहमति दे चुकी है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने खुद यह जानकारी साझा की है। हालांकि इस संबंध में कांग्रेस ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं। न ही माकपा, आम आदमी पार्टी या अन्य राजनीतिक दलों के विचार सामने आए हैं। 

हिमाचल की इन चार सीटों पर होने हैं उपचुनाव 

हिमाचल प्रदेश में चार सीटों पर उपचुनाव करवाए जाने हैं। इनमें से एक लोकसभा सीट मंडी के अलावा अर्की, फतेहपुर और जुब्बल-कोटखाई विधानसभा सीटें हैं। मंडी की सीट बीजेपी सांसद रामस्वरूप शर्मा के निधन के बाद खाली हुई है। अर्की की सीट पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस विधायक रहे वीरभद्र सिंह, फतेहपुर की भी वीरभद्र सरकार में मंत्री रहे कांग्रेस विधायक सुजान सिंह पठानिया और जुब्बल-कोटखाई की सीट धूमल सरकार में मंत्री रहे बीजेपी विधायक नरेंद्र बरागटा के देहांत के बाद रिक्त हुई है।

Post a Comment

0 Comments