हिमाचल में इस सीट पर उपचुनाव से पहले कांग्रेस की गुटबाजी उभरी: टिकट को लेकर फंसा है पेंच

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल में इस सीट पर उपचुनाव से पहले कांग्रेस की गुटबाजी उभरी: टिकट को लेकर फंसा है पेंच


कांगड़ा।
हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले की फतेहपुर विधानसभा सीट पर अगले माह उपचुनाव का आयोजन किया जाना तय हुआ है। इस सब के बीच फतेहपुर कांग्रेस में एक बार फिर से गुटबाजी उभर कर सामने आई, जब फतेहपुर कांग्रेस का एक गुट परिवारवाद का मुद्दा उठाकर उपचुनाव में किसी अन्य स्थानीय नेता या कार्यकर्ता को यहां से प्रत्याशी घोषित करने की पैरवी की। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल से बाहर जा रही टूरिस्ट बस खड़े ट्रक से टकराई, ड्राइवर नहीं बचा, 12 पहुंचे अस्पताल

कार्यकर्ता को सम्मान दो, कार्यकर्ता को टिकट दो के नारे के साथ सोमवार को राजा का तालाब गारन पैट्रोल पंप से लेकर धमेटा तक स्थानीय कांग्रेस नेताओं निशवार ठाकुर, चेतन चंबियाल, रीता गुलेरिया व राघव पठानिया के सामूहिक नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने बाइक, कार, ट्रैक्टर के माध्यम से रोड़ शो करके शीर्ष नेताओं को उनके पक्ष में चल रहे जनाधार को दर्शाने की कोशिश की। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में भूस्खलन: मलबे के नीचे तीन दबे - एक की गई जान

उपचुनाव में टिकट के चाह्वान नेताओं चेतन चंबियाल ने कहा कि परिवारवाद को छोड़कर किसी भी कार्यकर्ता को टिकट दी जाए। हम कांग्रेस प्रत्याशी को जीत दिलवाएंगे। चेतन चंबियाल ने कहा कि जिसने आज दिन तक एक दिन एक घंटा भी पार्टी को नहीं दिया। टिकट मिलने पर हम परिवारवाद प्रत्याशी के साथ नहीं चलेंगे। वहीं परिवारवाद को छोड़कर किसी भी कार्यकर्ता को टिकट देने के मामले में उनसे हाथ खड़े करवाए। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल ‌BJP महिला मोर्चा अध्यक्ष पद के लिए राजनीति शुरू, बेटी के लिए दिल्ली घूम आए जल शक्ति मंत्री

निशवार ठाकुर ने कहा कि आम कार्यकर्ता को आगे आने का मौका मिलना चाहिए। पार्टी कार्यकर्ता को सम्मान दे, कार्यकर्ता को टिकट दे। राघव पठानिया ने कहा कि क्या राजा का बेटा ही राजा बनेगा। राजा वो बनेगा जो मतपेटी से निकलेगा। राजा वो नहीं बनेगा जो रानी के पेट से निकलेगा। उन्होंने कहा कि जय भवानी के नारे पर उन्होंने कहा जय भगवान की होती है। इंसान की जय नहीं होनी चाहिए। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: 18 साल की बेटी ने 6 घंटे पहले लगवाई थी वैक्सीन, अचानक से छिन गई जिंदगी

उन्होंने पंडाल में मौजूद कार्यकर्ताओं की ओर इशारा करके कहा कि इतना बड़ा वर्करों का समूह जिसके पास होगा वो हारेगा नहीं। उन्होंने कहा कि शीर्ष नेतृत्व को पता होना चाहिये कि 3-4 ब्लॉक कमेटी के लोग जो नाम भेज रहे हैं वो गलत है। किसी भी कार्यकर्ता को टिकट दी जाए। कुनबा उसके साथ चलेगा। वहीं रीता गुलेरिया ने भी परिवारवाद को छोड़कर किसी कार्यकर्ता को टिकट देने की पैरवी की।

Post a Comment

0 Comments