गुहार सुनो सरकार: 35 साल से गोशाला में रह रही 70 वर्षीय महिला, पंचायत नहीं मानती गरीब

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

गुहार सुनो सरकार: 35 साल से गोशाला में रह रही 70 वर्षीय महिला, पंचायत नहीं मानती गरीब


सिरमौर।
आज हमारे देश को आजाद हुए 75 साल हो गए। इन 75 सालों में कई सारी सरकारें आईं और चली गईं। इस दौरान विकास के कई पन्ने लिखे गए और उन्हें किताब बनाकर पेश भी किया गया लेकिन जब आप जमीन पर उतर कर देखेंगे तो पाएंगे कि यह विकास अन्दर से काफी खोखला सा है। आज हम आपको कहानी बता रहे हैं, हिमाचल प्रदेश सिरमौर जिले में रहने वाली एक महिला की- जो पिछले 35 सालों से गोशाल में जिंदगी बसर करने को मजबूर है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: सड़क से लुढ़क कर 200 मीटर खाई में गिरी कार, राजस्व विभाग के कर्मी समेत दो थे सवार

इस सब के बावजूद भी स्थानीय पंचायत उसे गरीब मानने को तैयार नहीं है। उपमंडल संगड़ाह की रेड़ली पंचायत में रहने वाली इस अनुसूचित जाति की 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला का नाम पुन्नो देवी है, जो गोशाला में अपनी बेटी के साथ गरीब का दर्द सहन कर रही है। ये वाही गोशाला है, जहां से उक्त महिला ने अपनी दो बेटियों की शादी भी की है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: घर से निकला युवक डिस्पेंसरी के पास गिरा- जब लोगों ने पास जाकर देखा तो नहीं थी सांस

इस पंचायत में अव्यवस्था का आलम कुछ ऐसा है कि आज तक किसी भी पंचायत प्रतिनिधि को नहीं लगा कि यह परिवार गरीबी रेखा से नीचे है, इनका नाम भी बीपीएल सूची में आना चाहिए। उक्त महिला अपने बेटी के साथ इसी गोशाल में एक गाय और एक बकरी के साथ अपना बुढापा काट रही है। महिला का नाम बीपीएल श्रेणी में नहीं डाले जाने की वजह से उनके परिवार को न तो प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री आवास योजना का लाभ मिल पाया है और न ही अन्य किसी योजना का। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: जमीनी विवाद में चली गई एक और शख्स की जान, पुलिस ने 5 आरोपियों को किया अरेस्ट

पंचायत में तैयार बीपीएल सूची में कई पात्रों को शामिल न करने की मामले की शिकायत दिव्यांग देवेंद्र सिंह ने एसडीएम संगड़ाह को सौंपी है। उन्होंने बताया कि पुन्नो देवी जोड़ों में दर्द के चलते खेती व अन्य कार्य करने में सक्षम नहीं है। 850 रूपए की पेंशन के सहारे ही उनकी रोजी-रोटी चल रही है। इस पंचायत में वाहन रखने वाले लोग भी बीपीएल में दर्ज किए गए हैं, लेकिन पात्रों को इसका लाभ आजतक नहीं मिल पाया है। इस मामले की जांच शुर कर दी गई है और उम्मीद जताई जा रही कि इस महिला को उसका हक़ जल्द ही मिल सकेगा। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ