हिमाचल में प्रकृति का इंसाफ! रात को अवैध खनन पड़ा भारी, दरक गई पहाड़ी- दो दबे एक की मौत

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल में प्रकृति का इंसाफ! रात को अवैध खनन पड़ा भारी, दरक गई पहाड़ी- दो दबे एक की मौत


मंडी।
हिमाचल प्रदेश में बीते कुछ दिनों से भूस्खलन जैसी प्राकृतिक आपदाओं की वजह से करीब 250 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। सूबे में आए दिन पेश आ रही इन घटनाओं के पीछे प्रकृति के साथ हो रहे अन्याय को मुख्य वजह माना जा रहा है। छलनी हो रहे पहाड़ के सीने अब कमजोर पड़ने लगे है और वे इसी कारन से दरक रहे हैं। इसी कड़ी में प्रदेश के मंडी जिले से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। जहां पर अवैध खनन करना दो लोगों के लिए उस वक्त जानलेवा साबित हो गया जबकि पहाड़ दरक कर उन पर आ गिरा।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: शराबी नेपाली ने तवे और सरिये से पीटकर ले ली जान, फिर बच्चे-पत्नी संग भाग गया

बताया गया कि प्रकृति के इस प्रहार की चपेट में दो लोग आए थे, जिनमें से एक की जान भी चली गई। वहीं, दूसरा शख्स घायल हुआ है। बताया गया कि यह घटना जिले के करसोग उपमंडल के तहत आने वाले फिरनु नामक स्थान पर पेश आई। बता दें कि  करसोग से रामपुर जाने वाली सड़क पर फिरनु नामक स्थान पर एक रेत की खान है। सूत्रों की मानें तो इस खान में अवैध रूप से खनन का काम चलता है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में 30 तक स्कूल बंद: CM ने कहा- सामाजिक समारोह, विवाह समारोह, दावतें बढ़ा रहे कोरोना

इसी कड़ी में बीती रात को दो लोग यहां पर यही काम करने में जुटे हुए थे। इसी बीच अचानक से पहाड़ी का एक हिस्सा दरककर उनके ऊपर आ गिरा। इसके बाद जेसीबी की मदद से गिरे हुए मलबे को हटाया गया और मलबे में दबे लोगों को बाहर निकालकर कुमारसैन स्थित अस्पताल ले जाया गया, जहां पर एक को मृत घोषित कर दिया गया। वहीं, जबकि दूसरे मजदूर की गंभीर हालत को देखते हुए उसे प्राथमिक उपचार के बाद आईजीएमसी शिमला रेफर कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें: जहां के बंदे ने 'ऑनलाइन लड़कीबाजी' कर खराब किया था IPS मोहित चावला का नाम, वहीं बने SP

तहसीलदार करसोग राजेंद्र ठाकुर ने हादसे की पुष्टि करते हुए बताया कि मृतक की पहचान 57 वर्षीय नन्द लाल पुत्र हिमानंद निवासी फिरनु के रूप में हुई है जबकि घायल की पहचान रामकृष्ण पुत्र मंगत राम निवासी तेबल के रूप में हुई है।

Post a Comment

0 Comments