विधानसभा में हंगामा : कांग्रेस ने सांसद रामस्वरूप शर्मा मामले पर किया वॉकआउट, नाराबाजी भी..

Ticker

6/recent/ticker-posts

विधानसभा में हंगामा : कांग्रेस ने सांसद रामस्वरूप शर्मा मामले पर किया वॉकआउट, नाराबाजी भी..


हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मानसून सत्र का दूसरा दिन शुरू होते ही सदन में हंगामा होने का दौर शुरू हो गया है। सूबे के प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के नेताओं द्वारा सदन में खड़े होकर हंगामा किया गया। कांग्रेस के नेताओं ने भाजपा सांसद रामस्वरूप शर्मा के संदिग्ध निधन को लेकर जांच कराने की मांग की। इसके साथ ही कांग्रेस द्वारा इस विषय पर नियम 67 में सारा काम रोक कर स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा करने की भी मांग उठाई। 

रामस्वरूप शर्मा के निधन पर वह बहुत बीच विचलित हुए थे सीएम जयराम

इस पर संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि बिना नियम के इस तरह से किसी भी विषय पर नहीं बोला जा सकता। वह इस मसले पर प्रदेश के सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि रामस्वरूप शर्मा उनके गृह क्षेत्र मंडी से थे और उनकी ही पार्टी से ताल्लुक रखते थे। सीएम जयराम ने बताया कि रामस्वरूप शर्मा के निधन पर वह बहुत बीच विचलित हुए थे। सीएम जयराम ने कहा कि यह दुखद देहांत दिल्ली में हुआ है जो कि हिमाचल प्रदेश राज्य के कार्य क्षेत्र में नहीं आता। 

यह भी पढ़ें: शांता कुमार को भी मिली खालिस्तानियों की धमकी, Ex-CM ने वापस कर दिए थे सभी सुरक्षा और पुलिस एस्कॉर्ट

बकौल सीएम जयराम इस मामले को लेकर दिल्ली में जांच की प्रक्रिया जारी है। वह सांसद रामस्वरूप शर्मा के परिवार वालों से भी मिल चुके हैं। सीएम जयराम ठाकुर ने आगे कहा कि मीडिया में इस पूरे मसले को लेकर मात्र एक बयान उनके बेटे की तरफ से आया है। सीएम जयराम ने कहा कि उन्होंने खुद रामस्वरूप शर्मा के परिवार वालों से इस संबंध में बातचीत की है कि इस बारे में वह कुछ और करवाना चाहते हैं तो सरकार उनका साथ देगी। लेकिन परिजनों ने इस विषय पर कुछ भी नहीं कहा है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: रात को मां के साथ छत पर सोई थी बेटी- सुबह से ढूंढ रहे घर वाले

इस पर किन्नौर से कांग्रेस विधायक जगत सिंह नेगी द्वारा कहा गया कि 4 महीनों से चुप बैठे हुए हैं। इतने वक्त में तो सारे सबूत मिटा दिए जाएंगे। नेगी ने आगे कहा कि सीएम जयराम ठाकुर की बात मानकर ही अब तक वह सब इतने समय समय से चुप बैठे रहे। इस दौरान नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री के नेतृत्व में कांग्रेस विधायक दल के नेताओं ने सदन में इस मसले को लेकर हमलावर रुख अपनाए रखा। 

इस बारे में बजट सत्र में भी चर्चा हुई थी

वही स्पीकर विपिन सिंह परमार द्वारा कहा गया कि सुबह 9:40 पर जगत सिंह नेगी, सुंदर सिंह ठाकुर और नंदलाल ने विधायकों की ओर से इस बारे में नोटिस दिया। स्पीकर ने कहा कि मार्च 2021 में सांसद रामस्वरूप शर्मा का देहांत हुआ था। इस बारे में बजट सत्र में भी चर्चा हुई थी। 

यह भी पढ़ें: CM जयराम के बाद अब BJP चीफ नड्डा को खालिस्तानियों की धमकी, 15 अगस्त पर..

ऐसे में अब इस संबंध में नियम 67 के तहत दिया गया स्थगन प्रस्ताव अस्वीकार किया जाता है। स्पीकर विपिन सिंह परमार ने आगे कहा कि हिमाचल प्रदेश विधानसभा की अपनी गरिमा है जहां पर सार्थक चर्चाएं की जाती हैं। इस दौरान स्पीकर ने विपक्ष के सदस्यों से बैठने का अनुरोध किया। इस दौरान विपक्ष की नारेबाजी के बीच सदन में प्रश्नकाल शुरू हो गया। इसके बावजूद भी विपक्ष के सदस्य नारे लगाते रहे और नारेबाजी करते हुए ही सदन से बाहर चले गए।

Post a Comment

0 Comments