जहां के बंदे ने 'ऑनलाइन लड़कीबाजी' कर खराब किया था IPS मोहित चावला का नाम, वहीं बने SP

Ticker

6/recent/ticker-posts

जहां के बंदे ने 'ऑनलाइन लड़कीबाजी' कर खराब किया था IPS मोहित चावला का नाम, वहीं बने SP


सोलन।
हिमाचल प्रदेश के तेजतर्रार आईपीएस अधिकारी मोहित चावला ने सोलन जिले के अंतर्गत आते बद्दी में कार्यभार संभाल लिया है। अपराध की दृष्टि से संवेदनशील बद्दी वही इलाका है, जहां से एक लड़के द्वारा आईपीएस मोहित चावला के नाम का एक फर्जी फेसबुक अकाउंट चलाया जा रहा था। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: घर से भागे शादीशुदा महिला और पुरुष ने होटल में निगला जहर- दोनों के हैं 2-2 बच्चे

आरोपी युवक इस अकाउंट से लड़कियों से चैटिंग कर मोहित चावला के नाम पर एक बड़ा धब्बा लगा रहा था। उस वक्त मोहित चावला सोलन में पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात थे। अब मामला, सीधे आईपीएस अधिकारी से जुदा होने की वजह से बद्दी पुलिस ने बिलासपुर के झंडूता के रहने वाले इस शातिर को तत्काल प्रभाव से गिरफ्तार किया था। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में फिर से डराने लगा कोरोना: एक ही जिले में 100 से अधिक केस, जाने पूरे सूबे का हाल

आपको बता दें कि 2017 में सोलन के एसपी के फर्जी फेसबुक आईडी के बारे में तत्कालीन डीपीसीआर प्रभारी संजय कंवर को भनक लगी थी। गौरतलब है कि युवा अधिकारी होने के साथ-साथ फिटनेस के लिए भी पहचान रखने वाले मोहित चावला से लड़कियां काफी प्रभावित रहा करती थी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में एक और कांड: फंदे से झूला पति, तो पत्नी ने खा लिया जहर- दोनों स्वर्ग सिधारे

वहीं, फेक अकाउंट से जुड़े होने के कारण वो इस बात से खुश होती थी कि मोहित चावला जैसा आईपीएस उनकी फ्रैंडलिस्ट में है। वहीं, इस शातिर युवक ने आईपीएस मोहित चावला के फर्जी आईडी का इस्तेमाल कर करीब पौने 2 लाख की ठगी भी की थी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचली युवाओं को यहां मिल रही नौकरी: 100 से अधिक पदों पर होनी है भर्ती- जानें डीटेल

इतना ही नहीं आरोपी युवक ने व्हाट्सएप पर एसपी सोलन के नाम का प्रयोग कर युवतियों से पैसों की मांग भी शुरू कर दी थी। हालांकि, उसे गिरफ्तार कर कानून ने अच्छा सबक भी सिखाया था। अब इस कहानी को याद करते हुए बद्दी के नए एसपी मोहित चावला का कहना है कि अनजान व्यक्ति की फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार करने से पहले सावधानी बरती जानी चाहिए। 

मोहित चावला का संक्षिप्त ब्यौरा 

कुल्लू में जन्में मोहित का परिवार हरियाणा के अंबाला में सैटल हो गया था। 2001 में अंबाला की बाढ़ ने परिवार की आर्थिक स्थिति को हिलाकर रख दिया था। लिहाजा, तीन साल तक कंप्यूटर सैंटर में टीचर की नौकरी कर घर का खर्च चलाना पड़ा था। तीन साल तक पोस्टल क्लर्क रहे। 2008 में बैंक अधिकारी भी बन गए थे। साइबर क्राइम में भी पोस्ट ग्रैजुएशन की पढ़ाई की है।

Post a Comment

0 Comments