हिमाचल का ये व्यक्ति 2 साल से कोमा में है: सरकार ने दिए सिर्फ 15 हजार- इलाज में खर्चा हुआ लाखों का

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल का ये व्यक्ति 2 साल से कोमा में है: सरकार ने दिए सिर्फ 15 हजार- इलाज में खर्चा हुआ लाखों का


ऊना।
दुनिया में जन्म लेने वाले हर शख्स के जीवन में अपनी-अपनी समस्याएं होती हैं, जिनका सामना वो अपने तरीके और सामर्थ्य के साथ करने में जुटा रहता है। लेकिन आज हम आपको हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले से ताल्लुक रखने वाले एक शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके जीवन में सिर्फ दुःख ही नहीं बल्कि दुखों का पहाड़ खड़ा हो रहा है। हरोली उपमंडल के लूठड़े गांव निवासी संजीव कुमार की इस कहानी में परिवार की जिम्मेदारी उठाने वाला मुखिया 2 वर्ष से कोमा में है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: घर से भागे शादीशुदा महिला और पुरुष ने होटल में निगला जहर- दोनों के हैं 2-2 बच्चे

बताया गया कि लंबी बीमारी के बाद संजीव कुमार का ब्रेन काम करना बंद कर गया था। जिसके बाद से लेकर आज दिन तक संजीव कुमार कोमा की हालत में है। वहीं, अब ब्रेन के काम ना करने के चलते वह जड़ अवस्था में ऐसे ही बिस्तर पर लेटा हुआ है। वहीं, उसके पीछे परिवार में पत्नी और दो छोटे बच्चे काफी कठिनाई और संघर्ष के साथ अपना जीवन बसर कर रहे हैं। परिवार को संजीव के भाइयों ने यथासंभव सहायता भी प्रदान की। वहीं, पति के इलाज के लिए पत्नी ने बचाई हुई तमाम धनराशि खत्म कर दी।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में एक और कांड: फंदे से झूला पति, तो पत्नी ने खा लिया जहर- दोनों स्वर्ग सिधारे

अब जबकि सबके हाथ खड़े हो गए हैं तो ऐसे में संजीव की पत्नी मोनिका जमीन बेचकर पति का इलाज करवाना चाहती है। लेकिन इन परिस्थितियों में भी कानून आड़े आ रहा है और अब उसने पति के नाम वाली जमीन बेचने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। वहीं, इस परिवार ने सरकार से मदद भी मांगी, सरकार को परिवार ने लाखों रूपए के बिल भेजे हैं लेकिन अभी तक इस परिवार को मात्र 15 हजार रूपए की आर्थिक मदद ही सरकार की तरफ से मिली है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल की बेटी ने कटा दी नाक! अवैध संबंधों से परेशान पति ने नहर में छलांग लगाकर दी जान

इस सब के बीच लंबी जदोजहद के बाद संजीव को इस माह से ही दो हजार रूपये की पेंशन भी शुरू हो गई है। लेकिन संजीव के इलाज पर हर माह हजारों का खर्च होने और परिवार के पालन पोषण करने के लिए दो हजार रूपये कहां तक मददगार साबित होंगे। अब थक हार कर संजीव की पत्नी मोनिका ने डीसी ऑफिस ऊना में पहुंचकर डीसी राघव शर्मा के आगे भी फरियाद लगाई है और डीसी ऊना ने मोनिका को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है। 

Post a Comment

0 Comments