हिमाचल में मिला बहुत जहरीला सेंट्रल एशिया कोबरा: अभी तक नहीं निकला है जहर का तोड़, जानें ब्यौरा

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल में मिला बहुत जहरीला सेंट्रल एशिया कोबरा: अभी तक नहीं निकला है जहर का तोड़, जानें ब्यौरा


चंबा.
हिमाचल प्रदेश चंबा जिले स्थित चुराह क्षेत्र में दुनिया के सबसे जहरीले सांपों में से एक सेंट्रल एशिया कोबरा की मौजूदगी पाई गई है। अब तक दो बार इस प्रजाति के सांप को यहां रेस्क्यू किया गया है। पहले 2018 में भंजराड़ू में यह सांप मिला था। हाल ही में तीसा से इसे रेस्क्यू किया गया। 

इन सांपों पर शोध भी शुरू हो चुका है लेकिन अब तक इसके लिए कोई एंटी वेनम उपलब्ध नहीं है। थाईलैंड से लाई गई एंटी वेनम भी इस सांप पर बेसअर साबित हुई है और इस सांप के काटने से कई लोगों की मौत भी हो चुकी है।

सिर्फ थाइलैंड में ही पाया जाता है ये सांप

सैंट्रल एशिया कोबरा की ही एक प्रजाति है। कोबरा दुनिया का सबसे लंबा जहरीला सांप माना जाता है जो दक्षिण-पूर्व एशिया के बड़े हिस्से का मूल निवासी है। भारत में कोबरा मुख्य रूप से पश्चिमी घाटी क्षेत्र के साथ-साथ असम, बंगाल, ओडिशा और तराई क्षेत्रों में पाया जाता है लेकिन सेंट्रल एशियन कोबरा मौजूदा समय में सिर्फ थाइलैंड में ही पाया जाता है। अब चंबा में भी यह सांप पाया गया है। इस सांप की मौजूदगी भारत समेत दुनिया भर के शोधकर्ताओं के लिए शोध के नए अवसर पैदा कर सकती है।

अभी तक नहीं निकला है जहर का तोड़

इस सांप के जहर का तोड़ अभी तक पूरे विश्व में नहीं निकला है। हिमाचल में यह सांप सिर्फ चंबा जिले में जीवित है। भारत में पाए जाने वाले 70 से 80 फीसदी सांप जहरीले नहीं होते, लेकिन इलाज में लापरवाही से स्नेक बाइट का शिकार हुए लोगों की जान पर बन आती है। 

सर्पदंश के 50 प्रतिशत मामलों में व्यक्ति के शरीर में जहर नहीं पाया गया, लेकिन सेंट्रल एशियन कोबरा काफी जहरीला है। इसके डसने के बाद पीड़ित की बचने की संभावना बेहद कम रहती हैक्योंकि अब तक इसकी कोई दवा नहीं बनी है।

कैसे मिला यह दुर्लभ सांप

यूके स्थित बांगोरा यूनिवर्सिटी की डॉ अनीता मल्होत्रा की अध्यक्षता में सांपों पर रिसर्च चल रही है। अनीता मल्होत्रा चम्बा जिला की निवासी है। 2018 में वह टीम समेत हिमाचल आई थी। इस दौरान चंबा के भंजराड़ू में टीम ने सेंट्रल एशिया कोबरा रेस्क्यू किया था। 

कुल्लू में कोरल सांप पाया गया था। इसके बाद लगातार इस सांप पर शोध जारी है। अनीता मल्होत्रा का कहना है कि सेंट्रल एशियन कोबरा प्रजाति विलुप्त होने की कगार पर है। इन्हें बचाने की जरूरत है।

दूसरी बार फिर तीसा में मिला

वाइल्ड लाइफ से मान्यता प्राप्त रेस्क्यूर सैम जॉय ने बताया कि तीसा में एक व्यक्ति के घर में सांप निकला था और उन्हें उसे रेस्क्यू करने के लिए बुलाया गया। उन्होंने सांप को रेस्क्यू किया और सांपों पर रिसर्च कर रही टीम को इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह वही सेंट्रल एशिया कोबरा है। 

उन्होंने बताया कि दुनिया के सबसे दुर्लभ और बहुत कम दिखने वाले सांप को तीसा में रेस्क्यू किया है। इसे रेस्क्यू करने के बाद जंगल में छोड़ दिया है। इससे पहले भी सिर्फ 1 बार इस सांप को चंबा के तीसा में देखा गया है।

Post a Comment

0 Comments