हिमाचल की बेटी ने जशवंत से किया ब्याह- बन गया जुनैद, बोला- बच्चे को हिन्दू बनाया तो खैर नहीं

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल की बेटी ने जशवंत से किया ब्याह- बन गया जुनैद, बोला- बच्चे को हिन्दू बनाया तो खैर नहीं

कुल्लू: हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिला से धर्म परिवर्तन की एक हैरान करने वाली खबर सामने आई है। यहां के शमशी भुंतर की रहने वाली एक लड़की ने हिंदू रीति-रिवाज से पंजाब के जसवंत से शादी की जो अब जुनैद बन गया है।

इस्लाम अपनाने का बना रहा दवाब:

मिली जानकारी के अनुसार जसवंत अब जुनैद बन गया है। पत्नी और बच्चों को जबरन इस्लाम अपनाने के लिए प्रताड़ित कर रहा है। इस बाबत महिला ने जुनैद (जसवंत) के विरुद्ध पुलिस थाना कुल्लू में शिकायत दर्ज कराई है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: मां-बेटे को नदी किनारे सेल्फी लेना पड़ा महंगा, बह गए दोनों; देह बरामद

दर्ज शिकायत में महिला ने बताया कि वर्ष 2008 में उसकी शादी पंजाब के फगवाड़ा निवासी जसवंत राय के साथ हुई। दोनों परिवारों की आपसी सहमति से हिंदू रीति-रिवाज के साथ हुई थी। उस समय जसवंत कुल्लू जिला में ही पार्वती प्रोजेक्ट में कार्यरत था।

बच्ची को हिंदू धर्म सिखाया तो....

वर्ष 2012-2013 में जसवंत का ट्रांसफर कश्मीर के बांदीपूरा में हो गया। वह परिवार के साथ वहां चला गया। वर्ष 2015 में दोनों की एक बेटी पैदा हुई। इसी बीच जसवंत राय ने इस्लाम धर्म अपना लिया। पत्नी को धमकाने लगा कि बच्ची को हिंदू धर्म सिखाया तो दोनों को खत्म कर देगा।

यह भी पढ़ें: मंडी सीट पर कांग्रेस में गृह युद्ध: सुखराम के बाद विक्रमादित्य का दावा, बोले- प्रतिभा सिंह तैयार

महिला ने आरोप लगाया है कि जसवंत उर्फ़ जुनैद उसे मुस्लिम रीति-रिवाज, पहनावा आदि अपनाने के लिए तंग करने लगा। वर्ष 2017 में दोबारा उसका तबादला पार्वती प्रोजेक्ट में हुआ व परिवार कश्मीर से भुंतर शमशी आकर रहने लगा। लेकिन प्रताड़ना जारी रहा। जिससे तंग आकर महिला अब पुलिस के पास पहुंची है।

प्रदेश में लागू है ये कानून:

एसपी कुल्लू गुरदेव शर्मा ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि अधिकारिक तौर पर जसवंत ने जुलाई 2021 में धर्म बदलकर अपना नाम मुहम्मद जुनैद दर्ज करवा लिया। लेकिन महिला अपना धर्म नहीं बदलना चाहती है। 

भुंतर थाना में हिमाचल प्रदेश धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम की धारा 3 व 4 तथा आईपीसी की धारा 506, 298 के अंतर्गत एफआईआर दर्ज की गई है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: मां नैना देवी के दर्शन कर लौट रहे श्रद्धालुओं की गाड़ी पर गिरा पेड़, 7 पहुंचे अस्पताल

बता दें कि हिमाचल प्रदेश धार्मिक स्वतंत्रता अधिनियम प्रदेश विधानसभा द्वारा 2019 में लागू किया गया है। इसके प्रावधानों के अंतर्गत किसी लालच, दबाव, प्रताडऩा द्वारा धर्म।परिवर्तन करना या करवाना या प्रयत्न करना गैर जमानती जुर्म है। जिसके चलते पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

Post a Comment

0 Comments