कांग्रेस में बड़ी फूट, सीट को लेकर 50 पदाधिकारियों के इस्तीफे; गुटबाजी ने दिखाया रंग

Ticker

6/recent/ticker-posts

कांग्रेस में बड़ी फूट, सीट को लेकर 50 पदाधिकारियों के इस्तीफे; गुटबाजी ने दिखाया रंग

सोलन: हिमाचल प्रदेश के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह का निधन होने के बाद जिस बात का अंदेशा था, अब वही होता नजर आ रहा है। अर्की कांग्रेस कमिटी के सभी अधिकारियों ने इस्तीफा दे दिया है।

इन गुटों की है लड़ाई:

दरअसल, अर्की सीट से संजय अवस्थी को टिकट पार्टी ने लगभग फाइनल कर दिया है। संजय अवस्थी पूर्व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू और कांग्रेस की वरिष्ठ नेता विद्या स्टोक्स के गुट के हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचलः घर से नशे का धंधा चलाते थे पति-पत्नी, पुलिस ने बड़ी खेप समेत किया अरेस्ट

2017 के विधानसभा चुनाव में संजय अवस्थी पर वीरभद्र सिंह के विरोध में काम करने का भी आरोप लगा था। इस कारण नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री और विक्रमादित्य परिवार का गुट संजय अवस्थी को टिकट नहीं देना चाहता था।

कुल 50 नेताओं ने भेजा त्यागपत्र:

संजय अवस्थी के नाम के आधिकारिक ऐलान से पहले ही अर्की हलके में कांग्रेस के खेमे में बवंडर पैदा हो गया है। अर्की कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रूप सिंह ठाकुर सहित सचिव राजेंद्र ठाकुर, उपाध्यक्ष रंजीत सिंह पाल, ललित मोहन ठाकुर, कांशी राम शर्मा, वेद ठाकुर, राजेश ठाकुर, रविश कौल, गीताराम ठाकुर, जय सिंह कौशल, कमल कौंडल , गौरव ठाकुर इत्यादि समेत 50 नेताओं ने सामूहिक त्यागपत्र दिया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: बाइक पर ट्रिपलिंग करना पड़ा महंगा- खाई में गिरी, 1 की गई जान- दो पहुंचे अस्पताल

ये सामूहिक इस्तीफे पार्टी प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप ठाकुर को भेजे जा रहे हैं। नाराज पार्टी कार्यकर्ताओं ने कहा कि कांग्रेस हाईकमान इस विधानसभा क्षेत्र से संजीव अवस्थी को टिकट देने जा रहा है, जिसने 2017 के विधानसभा चुनाव में स्व राजा वीरभद्र सिंह के विरुद्ध कार्य किया था। 

भाजपा उठा सकती है फायदा:

इसकी लिखित शिकायत स्व। राजा वीरभद्र सिंह ने जिला कांग्रेस को भी की थी। नाराज कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि इन सबके बावजूद पार्टी के प्रदेश प्रभारी राजीव शुक्ला द्वारा पार्टी विरोधी कार्य करने वाले व्यक्ति को टिकट दिलवाया जा रहा है, जिसे सहन नहीं किया जा सकता।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: ट्रक को ओवरटेक करना पड़ा महंगा; सामने से आ रही कार से टकरा कर गई जान

हालांकि भाजपा-कांग्रेस के इस घमासान का सियासी फायदा उठाने की कोशिश कर सकती है, लेकिन बीजेपी को भी अपने खेमे को एकजुट रखकर उस हलके में चुनौती का सामना करना पड़ेगा, जहां दिवंगत वीरभद्र सिंह के निधन से सहानुभूति लहर भी हो सकती है।

Post a Comment

0 Comments