चेतन बरागटा के आंसू बने बगावत की चिंगारी: लड़ेंगे निर्दलीय चुनाव, BJP का जीतना मुश्किल

Ticker

6/recent/ticker-posts

चेतन बरागटा के आंसू बने बगावत की चिंगारी: लड़ेंगे निर्दलीय चुनाव, BJP का जीतना मुश्किल


शिमला।
हिमाचल प्रदेश में उपचुनाव का बिगुल बज चुका है। पार्टियों द्वारा उम्मीदवारों के नाम का ऐलान होने के साथ ही साथ टिकट की उम्मीद लगाए बैठे नेता जिन्हें इस बार मौके नहीं मिला है, उन्होंने बगावत के सुर भी बुलंद करने शुरू कर दिए हैं। राजधानी शिमला के तहत आते जुब्बल कोटखाई विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी ने महिला नेत्री नीलम सरकैक को उम्मीदवार बनाया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: शादी के 14 साल में नहीं हुआ बच्चा, पति की प्रताड़ना से तंग महिला फंदे से झूली

वहीं, अपने पिता नरेंद्र बरागटा के निधन से खाली हुई सीट पर से टिकट पाने की उम्मीद लगाए बैठे बीजेपी नेता चेतन बरागटा का दर्द बीते कल छलक उठा और भरे मंच से उनके आंसू छलक उठे, लेकिन चेतन के ये आंसू अब बीजेपी के लिए मुश्किलें भी खड़ी कर सकते हैं। दरअसल, टिकट ना मिलने पर चेतन ने बगावत की राह को चुनते हुए निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर पार्टी के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं।

बीती शाम उन्होंने इस बात का ऐलान कर दिया है कि वे अब जुब्बल-कोटखाई सीट पर निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे। चेतन बरागटा ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट किया है कि वह शुक्रवार को सुबह 9:30 बजे खड़ापत्थर में नामांकन दाखिल करेंगे। फेसबुक पर दिवंगत पिता नरेंद्र बरागटा की तस्वीर को सांझा करते हुए चेतन बरागटा ने जुब्बल कोटखाई की जनता से उपचुनाव में आशीर्वाद देने का आग्रह किया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल की लड़की को UP के युवक से हुआ सोशल मीडिया पर लव: अब बोली-उसने रेप किया

उन्होंने लिखा है कि जुब्बल नावर कोटखाई की जनता के साथ, बागबानों के साथ, बरागटा जी के स्वप्नों के साथ हम कुछ भी गलत नहीं होने देंगे।जो कार्य स्वर्गीय श्री नरेंद्र बरागटा जी के अधूरे रह गए, उसे पूरा करना हमारा कर्तव्य है। आपके समर्थन का आग्रह करता हूं।

यह भी पढ़ें: फतेहपुर उपचुनाव: कांग्रेस ने उतारा है करोड़पति उम्मीदवार- जानें भवानी की संपत्ति का ब्यौरा

गौरतलब है कि जुब्बल कोटखाई सीट पर चेतन बरागटा को बीजेपी की तरफ से टिकट मिलने के प्रबल आसार थे। वह कई दिनों से विस क्षेत्र में चुनाव प्रचार कर रहे थे। कई जनसभाओं में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने उन्हें भाजपा प्रत्याशी बनाने की बात कही थी। 

अब टिकट नहीं मिलने पर उनके समर्थकों में भारी आक्रोश है। ऐसे में माना जा रहा है कि अगर चेतन चुनाव मैदान में उतरते हैं तो बीजेपी का जीतना मुश्किल हो जाएगा और कांग्रेस भी इस बात का फायदा उठाने का जरूर प्रयास करेगी। 

Post a Comment

0 Comments