चेतन बरागटा का डबल गेम: कंधे पर भगवा और लगवा दिए 'वीरभद्र सिंह अमर रहे' के नारे

Ticker

6/recent/ticker-posts

चेतन बरागटा का डबल गेम: कंधे पर भगवा और लगवा दिए 'वीरभद्र सिंह अमर रहे' के नारे


हिमला।
हिमाचल प्रदेश में जारी उपचुनाव के दंगल के बीच सबसे बड़े बागी बनकर उभरे चेतन बरागटा कहने को तो निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं, लेकिन बीजेपी के रंग में रंगा हुआ भगवा पटका अभी तक उनके कन्धों से उतर नहीं सका है। एक तरफ जहां चेतन को जुब्बल कोटखाई विधानसभा क्षेत्र में लोगों से उनके पिता के आकस्मिक निधन के चलते संवेदना मिल रही है। वहीं, अब सहानुभूति का डबल डोज पाने के लिए चेतन ने एक नई चाल चली है। 

यह भी पढ़ें: सवारियां ले जा रही HRTC बस और टैंकर के बीच भिड़ंत, यात्रियों को ले जाया गया अस्पताल

दरअसल, शनिवार को टिक्कर में चेतन बरागटा द्वारा मंच से वीरभद्र सिंह अमर रहे के नारे लगावा दिए। गौरतलब है कि टिक्कर क्षेत्र को को कांग्रेस का गढ़ माना जाता है। ऐसे में चेतन यहां पर अपने पिता नरेंद्र बरागटा के साथ वीरभद्र सिंह अमर रहे के नारे लगाते नजर आए। इससे जुड़ा वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। 

रोहित के दादा ने ही वीरभद्र को हराया था 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: आज रात 12 बजे से अगली रात 12 बजे तक नहीं चलेगी HRTC बसें

आपको पता हो तो 1990 के चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी रोहित के दादा राम लाल ठाकुर ने जनता दल के टिकट पर वीरभद्र सिंह को चुनाव हराया था। यह अलग बात है कि उस समय वीरभद्र सिंह ने दो हलकों से चुनाव लड़ा था, जिसमें वो रोहडू से विजयी हुए थे। राजनीतिक जीवन में एकमात्र चुनाव कोटखाई-जुब्बल से हारने के बाद दिवंगत वीरभद्र सिंह ने दोबारा इस हलके का रुख नहीं किया था। अब देखना ये होगा कि जनता किसके साथ जाने का अंतिम फैसला लेती है। 

Post a Comment

0 Comments