हिमाचल बीजेपी महिला मोर्चा का बड़ा एक्शन: 7 पदाधिकारियों को किया 6 वर्ष के लिए बाहर

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल बीजेपी महिला मोर्चा का बड़ा एक्शन: 7 पदाधिकारियों को किया 6 वर्ष के लिए बाहर


शिमला।
हिमाचल प्रदेश में हो रहे उपचुनावों में सबसे अधिक चर्चा जुब्बल कोटखाई विधानसभा क्षेत्र की हो रही है। अपने राजनीतिक समीकरणों की वजह से हॉटसीट बने इस विधानसभा क्षेत्र का पारा एक बार फिर से बढ़ गया है। दरअसल यहां पर बीजेपी से बगावत कर निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनावी मैदान में उतरे नेता चेतन बरागटा का समर्थन करने वाले भारतीय जनता पार्टी से जुड़े कार्यकर्ताओं के खिलाफ लगातार कड़े एक्शन लिए जा रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल कांग्रेस ने अपने ही स्टार प्रचारकों से की तौबा: प्रत्याशियों ने भी कन्हैया-सिद्धू से किनारा

इसी कड़ी में बीजेपी महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष रश्मिधर सूद के आदेशों पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त सात पदाधिकारियों को आगामी छः सालों के लिए पार्टी से निष्कासित किया गया है। निष्कासित किए हुए पदाधिकारियों में जुब्बल कोटखाई, महासू से ताल्लुक रखने वाले पदाधिकारी और विषेश सदस्य शामिल हैं। 

जानें किस-किस को दिखाया गया पार्टी से बाहर का रास्ता-

  • महासू की जिला उपाध्यक्ष विजेता खिमटा, 
  • जिला सचिव पूनम मोखटा, 
  • जुब्बल –कोटखाई मंडल अध्यक्ष नैना तनेटा,
  • उपाध्यक्ष पिंकी कोटवी, 
  • मंडल महामंत्री सजना सलाकटा, 
  • विशेष आमंत्रित सदस्य रुबजा नेपटा 
  • विशेष आमंत्रित सदस्य मीनाक्षी मानटा 

गौरतलब है कि इससे पहले भी भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप के आदेशों पर जुब्बल कोटखाई में पार्टी की खिलाफत करने वाले तेरह नेताओं को पार्टी से छः सालों के लिए निष्कासित कर दिया गया था।  

यह भी पढ़ें: हिमाचल: महाकाली मंदिर के पीछे बच्चा गिराने की किट बेच रहे थे हकीम मियां, पकड़े गए

बता दें कि चेतन बरागटा के बागी हो जाने के कारण उनके गुट से ताल्लुक रखने वाले ये सभी नेता बीजेपी के खिलाफ जाकर उपचुनाव के दौरान क्षेत्र में उनके समर्थन कर बीजेपी के लिए मुश्किलें खड़ी कर रहे हैं। ऐसे में पार्टी द्वारा इन नेताओं के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ