हिमाचल: 61 साल बाद जलसमाधि से निकलेंगे भगवान रंगनाथ समेत आठ देवता, पढ़ें पूरा मामला

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: 61 साल बाद जलसमाधि से निकलेंगे भगवान रंगनाथ समेत आठ देवता, पढ़ें पूरा मामला


बिलासपुर।
हिमाचल प्रदेश को देशभर में देवभूमि के नाम से जाना जाता है। सूबे में कई सारे शक्तिपीठ और देवस्थान होने की वजह से ही इसे यह नाम दिया गया है। इसके अलावा प्रदेश में बने मंदिरों में ऐसे कई चमत्कार होते रहते हैं, जो कि लोगों को हैरात में डालते हैं। इसी कड़ी में प्रदेश के बिलासपुर जिले में कुछ ऐसा होने वाला है, जो बीते 61 साल से नहीं हो सका। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: औट टनल में बस और ट्रक में टक्कर, एक यात्री की गई जान, 13 पहुंचे अस्पताल

दरअसल, यहां स्थित भाखड़ा बांध से बनी गोबिंद सागर झील में 61 साल पहले जलसमाधि लेने वाले भगवान रंगनाथ के मंदिर समेत हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर के आठ मंदिरों को शिफ्ट करने की योजना सिरे चढ़ती दिख रही है। बता दें कि आठवीं और नौवीं सदी में शिखर शैली में बने इन मंदिरों को बंदला रोड पर काला बाबा कुटिया के पास बिजली बोर्ड की जमीन में स्थानांतरित किया जाएगा। इसके लिए सवा आठ बीघा भूमि मंजूर हुई है। 

भाखड़ा बांध बनने से डूब गए थे मंदिर 

मिली जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन तीन-चार दिन में जमीन को भाषा एवं संस्कृति विभाग के नाम स्थानांतरित कर देगा। बता दें कि भाखड़ा बांध बनने से वर्ष 1960 में बिलासपुर के कई ऐतिहासिक मंदिर गोबिंदसागर झील में डूब गए थे। इनमें रंगनाथ मंदिर, खनेश्वर, नर्वदेश्वर, गोपाल मंदिर, मुरली मनोहर मंदिर, बाह का ठाकुरद्वारा, ककड़ी का ठाकुरद्वारा, नालू का ठाकुरद्वारा, खनमुखेश्वर मंदिर प्रमुख हैं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में कोरोना: आज भी गई चार की जान, 182 नए मरीज आए सामने- जानें पूरी डीटेल

इनमें कई मंदिर गोबिंदसागर झील में डूब गए, जबकि कुछ मंदिर हर साल झील का पानी बढ़ने से समाधि लेते हैं, जबकि गर्मियों में गाद में धंसे दिखाई देने लगते हैं। इन्हें निकालने के लिए प्रशासन और सरकार सालों से काम कर रहे हैं। इन मंदिरों के साथ जिले के लोगों की आस्था जुड़ी हुई है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल पुलिस को बड़ी सफलता: चरस की खेप पकड़ी, डेढ़ किलो से अधिक नशे संग दो अरेस्ट

उपायुक्त पंकज राय ने इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए कहा कि मंदिरों को शिफ्ट करने के लिए प्रशासन तीन प्रस्तावों शिफ्टिंग, लिफ्टिंग और रेप्लिका प्रणाली पर काम कर रहा है। इनमें से जो भी संभव होगा, इसके तहत इन्हें सुरक्षित किया जाएगा।

क्या है शिफ्टिंग, लिफ्टिंग और रेप्लिका 

शिफ्टिंग में मंदिरों के पत्थरों को निकालकर समान शैली के आधार पर मंदिरों का निर्माण किया जाएगा या अगर संभव हुआ तो मंदिरों को उठाकर चिह्नित जगह पर स्थापित किया जाएगा। लिफ्टिंग में मंदिरों को गोबिंदसागर झील के किनारे ही 20 फीट ऊपर उठाया जाएगा, ताकि मंदिर पानी में न डूबें। वहीं, रेप्लिका में मंदिरों को उसी शैली में नया प्रतिरूप बनाकर उन्हें चिह्नित जगह पर स्थापित किया जाएगा। 

Post a Comment

0 Comments