हिमाचल: रंगड़ों ने ले ली मां-बेटी की जान- घायल होने पर PGI ले जाया गया था पर नहीं बचीं

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: रंगड़ों ने ले ली मां-बेटी की जान- घायल होने पर PGI ले जाया गया था पर नहीं बचीं


हमीरपुर।
हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले से एक बड़ी ही दुखद खबर सामने आई है। दरअसल, यहां स्थित सुजानपुर उपमंडल के अंतर्गत आते ग्राम पंचायत बजरोल के धुंदला गांव में रंगड़ों के हमले से एक मां-बेटी का दुखद निधन हो गया। बताया गया कि मां-बेटी पर रंगड़ों ने उस वक्त हमला किया जब वो घास लाने के लिए गई हुई थीं। 

20 साल थी बेटी की उम्र- पिता करता है प्राइवेट नौकरी 

रंगड़ों के हमले से घायल होने के बाद मां-बेटी को प्राथमिक उपचार देने के बाद गंभीर हालत में आगामी इलाज के लिए पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया गया था। जहां उपचार के दौरान उनकी जान चली गई। 

पंचायत प्रधान लता कुमारी ने इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए बताया कि वार्ड नंबर एक के गांव धुंदला में बुधवार शाम विद्या देवी (47) पत्नी मदन लाल और बेटी अंजना कुमारी (20) घास काटने के लिए घर से निकलीं। घास काटते समय रंगड़ों ने दोनों पर हमला कर दिया।

यह भी पढ़ें: विक्रमादित्य सिंह ने मांग ली माफी, कहा: जोश जोश में कर गया पटक पटक कर फेंकने की बात

इसके बाद दोनों को ग्रामीणों ने उपचार के लिए सिविल अस्पताल सुजानपुर लाया। चिकित्सकों ने इन्हें मेडिकल कॉलेज हमीरपुर रेफर कर दिया। यहां भी चिकित्सकों ने दोनों की गंभीर हालत को देखते हुए इन्हें मेडिकल कॉलेज टांडा रेफर कर दिया। टांडा से भी चिकित्सकों ने उन्हें पीजीआई चंडीगढ़ रेफर किया। 

यह भी पढ़ें: बाग़ी हुए चेतन बरागटा ने निर्दलीय भरा नामांकन: पार्टी से निष्कासन तय, बोले- दिल में रहेगा कमल

जहां गुरुवार शाम को बेटी ने दम तोड़ दिया जबकि देर रात मां की भी मौत हो गई। मृतक विद्या देवी के पति मदन लाल प्राइवेट नौकरी करते हैं। अंजना कुमारी कॉलेज की पढ़ाई कर रही थी। प्रधान लता कुमारी ने सरकार और प्रशासन से पीड़ित परिवार की सहायता करने की मांग की है।

Post a Comment

0 Comments