हिमाचल की बेटी को मिली 70 लाख की छात्रवृत्ति, फ्रांस के राष्ट्रीय संस्थान से करेगी PHD

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल की बेटी को मिली 70 लाख की छात्रवृत्ति, फ्रांस के राष्ट्रीय संस्थान से करेगी PHD


सोलनः
कहते हैं कि सपना देखना बहुत आसान होता है परंतु उसे पूरा करना उतना ही कठिन, लेकिन अगर दिल में कुछ कर गुजरने का जज़्बा हो तो बाधा कितनी ही बड़ी क्यों ना हो उसे पार किया जा सकता है। 

ऐसा ही एक किस्सा सोलन जिले से ताल्लुक रखने वाली नैन्सी सागर का है। जिसने अपनी मेहनत और लगन से फ्रांस में पीएचडी करने के लिए INRAE फेलोशिप हालिस की है। इसके तहत नैन्सी ऑरलियन्स विश्वविद्यालय में वन आनुवंशिकी में (PHD) पीएचडी करेंगी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: बस की टक्कर से चल बसा युवक: 20 दिन पहले हुई थी शादी, करवाचौथ के पहले उजड़ा सुहाग

बता दें कि INRAE फ्रांस का राष्ट्रीय कृषि, खाद्य और पर्यावरण अनुसंधान संस्थान है। जहां PHD करने पहुंची नैन्सी सागर को मेडिकल रिम्बर्समेंट के साथ लगभग 70 लाख रूपए की छात्रवृत्ति मिलेगी। 

मिली जानकारी के मुताबिक नैन्सी वन ट्री लार्च प्रजाति पर आधारित परियोजना में काम करेंगी। इस परियोजना के तहत नैन्सी को पेड़ की वृद्धि के लिए आनुवंशिकी, जीनोमिक्स और शरीर क्रिया विज्ञान में विशेषज्ञता रखने वाले संयुक्त एकीकृत जीव विज्ञान अनुसंधान इकाई के 20 वैज्ञानिकों की एक टीम के साथ करने का मौका मिलेगा। 

INRAE द्वारा लिए गए साक्षात्कार में हुई सफल 

बतौर रिपोर्टस, नैन्सी ने 2018 में विश्वविद्यालय के कॉलेज ऑफ हॉर्टिकल्चर एंड फॉरेस्ट्री नेरी से बीएससी वानिकी और आईसीएआर की नेशनल टैलेंट स्कीम के तहत यूएएस धारवाड़ से फॉरेस्ट बायलॉजी, ट्री इम्प्रूवमेंट एंड जेनेटिक रिसोर्सेज में एमएससी की है। नैन्सी सागर नेरी महाविद्यालय में चल रही शोध परियोजना में जूनियर रिसर्च फेलो के रूप में काम कर रही थी। 

यह भी पढ़ें: BJP नेता सत्ती के प्रतिभा सिंह को लेकर बिगड़े बोल, बोले- वीरभद्र सिंह को स्वर्ग सिधारे..

इस दौरान नैन्सी ने INRAE में फॉरेस्ट जेनेटिक्स में स्कॉलरशिप के साथ पीएचडी के लिए आवेदन किया था। चयन की प्रक्रिया में INRAE की  ओर से लिए गए साक्षात्कार में नैन्सी सफल हो गई, जिसके बाद उसे विश्ववद्यालय की ओर से पीएचडी के लिए तीन साल के लिए फेलोशप प्रदान की गई है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: बस की टक्कर से चल बसा युवक: 20 दिन पहले हुई थी शादी, करवाचौथ के पहले उजड़ा सुहाग

बता दें कि नैन्सी के पिता सत्य प्रकाश सागर बीएसएनएल में एसडीओ के पद पर सेवाएं दे रहें हैं, जबकि उनकी माता मोनिका सागर गृहणी हैं। बेटी की इस उपलब्धि पर उसके परिजनों, अध्यापक व क्षेत्र के लोग काफी खुश हैं। उनकी इस उपलब्धि पर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. परविंदर कौशल ने वेब कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए नैंसी से बात की और उन्हें बधाई दी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ