राजधानी में HRTC कर्मियों का बड़ा धरना; इस दिन सड़कों पर नहीं दौड़ेगी बसें

Ticker

6/recent/ticker-posts

राजधानी में HRTC कर्मियों का बड़ा धरना; इस दिन सड़कों पर नहीं दौड़ेगी बसें

शिमला: हिमाचल प्रदेश में उपचुनाव के सरगर्मियों के बीच पथ परिवहन निगम के कर्मचारियों ने सरकार और प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कर्मियों ने सोमवार को राजधानी शिमला में प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की।

इस तारीख को नहीं चलेंगी बसें:

बता दें कि एचआरटीसी कर्मचारी वित्तीय लाभ नहीं मिलने के कारण खफा चल रहे हैं। 18 अक्टूबर को प्रदेश भर में एचआरटीसी बसों के पहिया जाम रखने का निर्णय लिया गया है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल से दुखद खबर: स्कूल से खड्ड में नहाने गई थी दोस्तों की मंडली, दो घरों के एकलौते चिराग बुझे

साथ ही यह प्रदर्शन आगामी 17 अक्टूबर तक हर यूनिट में जारी रहेगा। जिसके बाद 18 अक्टूबर को बसें का संचालन नहीं किया जाएगा। परिवहन निगम कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति के सचिव राजेंद्र ठाकुर ने बताया कि अक्तूबर का आधा महीना निकलने वालाहै। अभी तक कर्मचारियों को तनख्वाह नहीं मिली है।

सालों से नहीं मिला है ओवरटाइम:

प्रदर्शन और नारेबाजी का कारण है कि 35 महीने (तीन साल) से एचआरटीसी चालक-परिचालकों को ओवर टाइम नहीं दिया गया है। सुबह से देर रात तक चालक और परिचालक बसों में सेवाएं दे रहे हैं। बावजूद इनकी अनदेखी की जा रही है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में हुए छह अधिकारियों के जरूरी तबादले, चुनाव आयोग से अनुमति लेकर आदेश जारी

इसी तरह डीए, आईआर भी नहीं दिया गया। इसकी अधिसूचना आचार संहिता से पहले हुई है, बावजूद प्रबंधन आदेश जारी नहीं कर रहा है। सोमवार को हर यूनिटों में एचआरटीसी कर्मचारियों ने एक बजे से लेकर छज दो बजे तक प्रदर्शन कर प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की। 

Post a Comment

0 Comments