हिमाचल में कर्मचारी ही बनाते-गिराते हैं सरकार, विक्रमादित्य ने मार ली खुद के पैर पर कुल्हाड़ी

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल में कर्मचारी ही बनाते-गिराते हैं सरकार, विक्रमादित्य ने मार ली खुद के पैर पर कुल्हाड़ी

शिमला: राजनीति को बयानों का खेल कहा जाता है। एक गलत बयान से गए मैसेज ने बड़े-बड़े भूपतियों के सत्ता की कुर्सी पलट दी है। हिमाचल में भी ऐसा ही कुछ माहौल बनता दिख रहा है। 

कर्मचारी ही सत्ता बनाते बिगाड़ते हैं:

हिमाचल के बारे में कहा जाता है कि यहां सरकारी कर्मचारी ही सरकार बनाते हैं गिराते हैं। ऐसे में उपचुनाव से ठीक पहले कांग्रेस पार्टी ने कर्मचारियों से दुश्मनी मोल ले ली है। 

यह भी पढ़ें: सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ बोल फंस गए विक्रमादित्य, सुबह 4 बजे Live आकर देनी पड़ी सफाई

नाम नहीं छापने के शर्त पर कर्मचारी संघ के एक बड़े नेता ने बताया कि विक्रमादित्य सिंह ने अपने इस बयान से कर्मचारी वर्ग के स्वाभिमान को चुनौती दे दी है। ऐसे में कांग्रेस को कर्मचारियों को अपने साथ करना चुनौतीपूर्ण होगा।

हिमाचल कांग्रेस के पप्पू!

बता दें कि विक्रमादित्य ने शिमला के सुन्नी क्षेत्र में कहा कि उनकी गिद्ध की नजर है। सब कुछ नजर आ रहा है, उनकी सरकार बनते ही कर्मचारी-अधिकारियों को पटक-पटक कर फेंक देंगे।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: अंतिम चरण में पहुंचा मानसून, जाते-जाते भी नहीं मानेगा; अलर्ट जारी

इस बयान के बाद से ही उनकी तुलना राहुल गांधी से होने लगी है। सोशल मीडिया पर लोग उन्हें हिमाचल कांग्रेस का पप्पू बता रहे हैं। लोगों का कहना है कि विक्रमादित्य ने खुद से अपने पैर पर कुल्हाड़ी मार ली है।

अधिकारी-कर्मचारी क्या करें:

विक्रमादित्य के इस विवादित बयान से एक बात जो साफ हो रही थी कि वह नहीं चाहते हैं कि अधिकारी और कर्मचारी वर्ग सरकार का काम काज में सहयोग करें। जिसे वह अपनी भाषा में चाटुकारिता बता रहे थे।

यह भी पढ़ें: उपचुनाव: आश्रय को दिल्ली से मिला इनकार- मंडी से प्रतिभा सिंह होंगी कांग्रेस की उम्मीदवार

विचारणीय है कि अधिकारी और कर्मचारी वर्ग सरकार के हाथ-पैर होते हैं। यदि यही वर्ग सरकार का सहयोग छोड़ विपक्ष की तरह धरने पर बैठ जाए तो प्रदेश में अराजकता फैल जाएगी। 

सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों का यही कार्य भी है कि वह शाशकीय कार्य में सरकार का भरपूर सहयोग अपने दायित्व के अनुसार करे। ताकि जनहित की योजनाएं लोगों तक पहुंचे और उनकी सुनवाई हो।

Post a Comment

0 Comments