उपचुनाव से पहले कांग्रेस की फजीहत: टिकट ऐलान होते ही भंग करना पड़ा अर्की कांग्रेस ब्लॉक

Ticker

6/recent/ticker-posts

उपचुनाव से पहले कांग्रेस की फजीहत: टिकट ऐलान होते ही भंग करना पड़ा अर्की कांग्रेस ब्लॉक

सोलन: कांग्रेस में गुटबाजी का रंग पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के सीट अर्की से ही शुरू हो गई है। अर्की कांग्रेस कमेटी के सभी अधिकारियों के इस्तीफे के बाद प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौड़ ने कमेटी भंग कर दिया है।

कमेटी भंग, नए अध्यक्ष नियुक्त:

प्रदेश कांग्रेस अनुशासन समिति की अध्यक्ष विप्लव ठाकुर की सिफारिश के बाद कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने अर्की ब्लॉक कांग्रेस कमेटी को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस के लिए राजा का गढ़ जीतना मुश्किल: टिकट न मिलने पर राजेंद्र ठाकुर का इस्तीफा, BJP के साथ..

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने सतीश कश्यप को तत्काल प्रभाव से अर्की ब्लॉक कांग्रेस कमेटी का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया है। टिकट के ऐलान के बाद जहां कांग्रेस पार्टी को चुनाव प्रचार की शुरुआत करनी थी, वहीं कांग्रेस पार्टी अभी अंदरूनी गुटबाजी सुलझाने में लगी हुई है। 

कार्यकर्ताओं को मनाएंगे कांग्रेस नेता:

कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने कहा कि फिलहाल अभी किसी को पार्टी से निकाला नहीं गया है। पार्टी के नेता सभी से बात करेंगे और उन्हें मनाने की कोशिश की जाएगी। उन्होंने कहा कि पार्टी टिकट एक व्यक्ति को ही दे सकती और जो दूसरे लोग टिकट के दावेदार होते है उनमें नाराजगी जाहिर सी बात है।

यह भी पढ़ें: CM जयराम से बंद कमरे में मिले अनिल शर्मा, भाजपा के पक्ष में प्रचार करेगा सुखराम परिवार!

बता दें कि पूरे विवाद की शुरुआत संजय अवस्थी को टिकट देने के साथ शुरू हुई है। संजय सुक्खू-विद्या स्टोक्स गुट के नेता हैं और 2017 के विधानसभा चुनाव में इन्होने राजा वीरभद्र सिंह को विरोध में काम किया था। 

संजय को टिकट देने से उपजा विवाद:

कार्यकर्ता राजेंद्र ठाकुर अर्की हलके के दिग्गज नेता हैं और वीरभद्र सिंह की तबियत बिगड़ने के बाद उनके विधानसभा क्षेत्र का काम काज देखते थे। लेकिन पार्टी ने राजा गुट का वर्चस्व खत्म करने के लिए संजय को टिकट दे दिया। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल कांग्रेस के लिए अपने ही बनेंगे चुनौती: वीरभद्र के विरोधी को दिया टिकट, मंडी में भी...

सूत्रों के हवाले से खबर यह भी सामने आ रही है कि राजेंद्र ठाकुर कांग्रेस के विरोध में काम कर सकते हैं। वहीं, सूत्रों ने निर्दलीय चुनाव लड़ने के आशंका से इनकार किया है। भाजपा को समर्थन करने के कयास जरूर लगाए जा रहे हैं।

Post a Comment

0 Comments