उपचुनाव: आश्रय को दिल्ली से मिला इनकार- मंडी से प्रतिभा सिंह होंगी कांग्रेस की उम्मीदवार

Ticker

6/recent/ticker-posts

उपचुनाव: आश्रय को दिल्ली से मिला इनकार- मंडी से प्रतिभा सिंह होंगी कांग्रेस की उम्मीदवार

मंडी: लोकसभा सीट मंडी से उपचुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी को आज प्रत्याशी के नाम का औपचारिक ऐलान करना था। लेकिन पार्टी ने अब्झी तक इसका आधिकारिक ऐलान नहीं किया है।

प्रतिभा सिंह का नाम फाइनल:

हालांकि, पुख्ता सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार पार्टी आलाकमान ने प्रतिभा सिंह के नाम को फाइनल कर दिया है। आश्रय शर्मा के समर्थन में उनके परिवार के लोगों के अलावा प्रदेश कांग्रेस का और नेता सामने नहीं आया।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: नशे की गोली देकर लूटी इज्जत, 6 माह बाद चला गर्भ का पता- पहुंची DC ऑफिस

सभी का एक सुर में कहना था कि प्रतिभा सिंह की मंडी लोकसभा सीट के लिए सबसे उपयुक्त उम्मेदवार हैं। पार्टी को अब इसका आधिकारिक ऐलान करना है। उम्मीद है कि रविवार सुबह तक नाम का आधिकारिक ऐलान हो जाएगा।

गर्त में ले गए थे आश्रय:

गौरतलब है कि आश्रय शर्मा ने विगत लोकसभा चुनाव में  मंडी सीट से कांग्रेस पार्टी को रिकॉर्ड चार लाख वोट के अन्तर से सामना कराया था। आज तक के इतिहास में इतनी बड़ी अंतर से किसी नेता ने इस सीट से चुनाव नहीं हारा था। चाहे वह भाजपा के हों या कांग्रेस के, ऐसे में आलाकमान के लिए भी आश्रय शर्मा के साथ जाना मुश्किल था।

यह भी पढ़ें: वेतन आयोग: सरकारी कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, सरकार ने बदले नॉमिनी से जुड़े नियम, जानें

कांग्रेस पार्टी को एक मजबूत उम्मीदवार की जरूरत थी। जिसकी जीत अगले वर्ष होने वाली विधानसभा चुनाव को भी प्रभावित कर सके। ऐसे में प्रतिभा सिंह ही एकमात्र विकल्प थीं। पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के निधन का सहानुभूति वोट भी उन्हें मिलने के आसार हैं।

सुखराम की नाराजगी सबसे बड़ी चुनौती!

वहीं, भाजपा को भी अब इस सीट से कोई मजबूत उम्मेदवार उतारना होगा जो प्रतिभा सिंह को हराकर आगे वर्ष विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी को आत्मविश्वास से लबरेज कर दे। इस रेस में प्रदेश सरकार में मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर का नाम सबसे आगे चल रहा है। महेंद्र सिंह मंदी के ही धरमपुर विधानसभा सीट से विधायक हैं और मंडी क्षेत्र के कद्दावर नेता हैं।

यह भी पढ़ें: कर्मचारियों को पटक-पटक कर फेंक देंगे विक्रमादित्य, गिद्ध से की अपनी तुलना

वहीं, कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी चुनौती पंडित सुखराम के परिवार के विरोध से पार पाना होगा। पोते को टिकट नहीं मिलने से बौखलाए हुए सुखराम ही कांग्रेस पार्टी के लिए चिंता का सबब बन सकते हैं। हालांकि, सुखराम परिवार का वर्चस्व काफी हद तक कम हो गया है। इन सबके बीच चुनावी सरगर्मी काफी दिलचस्प होने जा रही है।

Post a Comment

0 Comments