विक्रमादित्य ने दी BJP को चुनौती: सेना को ना बनाएं ढाल, दम है तो मुद्दों पर लड़ें चुनाव

Ticker

6/recent/ticker-posts

विक्रमादित्य ने दी BJP को चुनौती: सेना को ना बनाएं ढाल, दम है तो मुद्दों पर लड़ें चुनाव


शिमला।
हिमाचल प्रदेश में उपचुनाव का माहौल चरम पर पहुंच चुका है। कहने को तो यह उपचुनाव चार सीटों पर हो रहे हैं, लेकिन इन पर पूरे प्रदेश की नजरें टिकी हुई हैं। इसी कड़ी में बीते कल मंडी संसदीय सीट से कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह द्वारा दिया गया एक बयान बड़ा मसला बनकर उभरा और कांग्रेस की अच्छी-खासी फजीहत हुई। 

यह भी पढ़ें: उपचुनाव से पहले मंडी में कोरोना का अटैक: स्कूल के आधा दर्जन से अधिक बच्चे हुए पॉजिटिव

इस मामले को सत्तासीन दल भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने जहां आड़े हाथों लिया और जनता ने कांग्रेसी नेताओं को खूब खरी खोटी सुनाई। वहीं, अब कांग्रेस की तरफ से प्रतिभा सिंह का बचाव करने उनके बेटे विक्रमादित्य सिंह उतर आए हैं। इस मसले पर पलटवार करने के लिए विक्रमादित्य सिंह ने सोशल मीडिया का सहारा लिया। 

बीजेपी ने विक्रम बत्रा की माता जी को हराने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी

कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य ने बीजेपी को सेना के नाम पर राजनीति ना करने की भी सलाह दी है। विक्रमादित्य सिंह ने भाजपा को चुनौती देते हुए कहा कि दम हैं तो मुद्दों पर चुनाव लड़े, सेना को अपनी ढाल ना बनाए। भाजपा पर हमला करते हुए बोले कि आज वह भाजपा हमें राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ा रही है, जिसने 2014 के लोकसभा चुनाव में कारगिल के शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा की माता जी को हराने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: 500 फीट गहरे नाले में गिरी कार, पिता-पुत्र और भतीजे ने गंवाई जान- पसरा मातम

बकौल विक्रमादित्य सिंह, इतिहास गवाह है। हम सब शहीदों को नमन करते हैं। राष्ट्रवाद हमारे खून में है। वह नहीं जानते हैं कि वीरभद्र सिंह आधूनिक हिमाचल के निर्माता के साथ-साथ सेना में ऑनरेरी कैप्टन भी रहे। भाजपा से निवेदन कि है कि वह सेना को चुनावों में घसीटकर उसे घूमिल ना करे। वह देश का गर्व है। यह चुनाव महंगाई, बेरोजगारी, डबल एंजिन और विकास के नाम पर लडा जाएगा।

जानें प्रतिभा सिंह के किस बयान से खड़ा हुआ बवाल 

गौरतलब है कि यह सारा विवाद प्रतिभा सिंह के उस बयान से शुरू हुआ, जिसमें उन्होंने कहा था कि भाजपा ने अपना टिकट एक पूर्व फौजी को दिया है, क्योंकि उन्होंने कारगिल युद्ध में भाग लिया था, लेकिन कारगिल युद्ध कोई बड़ा युद्ध नहीं था। सिर्फ अपनी धरती से ही पाकिस्तानियों को खदेड़ना था। 

यह भी पढ़ें: वीडियो: मौन व्रत करने गए कुलदीप राठौड़ ने सुरक्षा कर्मियों को दी गाली, बोले: भैं*&$, मैं कोई ...

ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर को लेकर उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसे पेश किया जा रहा है, जैसे वे बहुत बड़े सैनिक रहे हों और विजय हासिल की हो। भाजपा ये सब सिर्फ इसलिए कर रही है, ताकि सैनिकों, पूर्व सैनिकों और परिजनों के वोट हासिल कर सके। लेकिन, जनता ने सोच समझकर विकास के नाम पर अपनी मुहर लगानी है।

Post a Comment

0 Comments