वोट मांगते विक्रमादित्य को जनता ने दिखाया आइना: कहा- श्रद्धांजलि के नाम पर वोट तुच्छ राजनीति..

Ticker

6/recent/ticker-posts

वोट मांगते विक्रमादित्य को जनता ने दिखाया आइना: कहा- श्रद्धांजलि के नाम पर वोट तुच्छ राजनीति..


शिमला।
अभी कल की ही बात है जब कांग्रेस आलाकमान द्वारा हिमाचल प्रदेश की चार सीटों पर होने वाले आगामी उपचुनाव के लिए उम्मीदवारों का नाम फाइनल किया गया था। इन चुनावों में सबसे अहम् मानी जा रही मंडी लोकसभा सीट से सूबे के दिवंगत पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह को कांग्रेस ने मैदान में उतारा है। नाम फाइनल होने से पहले भी प्रतिभा सिंह मंडी सीट से प्रबल दावेदार के रूप में देखी जा रही थीं। 

सबसे पहले बेटे ने ही भुना लिया पिता का शोक 

वहीं, जनता का भी यह मानना था कि राजा के निधन से आहत हुए वोटर सहानभूति के कारण प्रतिभा सिंह के पक्ष में भारी मतदान कर उन्हें विजयी भी बना सकते हैं। इसके साथ ही अंदाजा इस बात का भी लगाया जा रहा था कि कांग्रेस द्वारा राजा के निधन को भुनाने का प्रयास भी किया जाएगा, लेकिन ऐसा करने वालों में सबसे पहला नाम खुद उनके बेटे और कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह का होगा यह किसी ने नहीं सोचा था। 

दरअसल, हुआ कुछ ऐसा कि बीते कल मंडी लोकसभा सीट से प्रतिभा सिंह का नाम फाइनल होने के बाद विक्रमादित्य सिंह ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जारी जनता से अपनी माता को वोट देने की अपील करता हुआ एक पोस्टर सोशल मीडिया पर शेयर किया। वहीं, इस पोस्टर को शेयर करने के बाद विक्रमादित्य सिंह ट्रोल हो गए और जनता ने उन्हें आइना भी दिखा दिया। 

आखिर ऐसे क्या लिखा था उस पोस्ट में 

विक्रमादित्य सिंह द्वारा फेसबुक पेज पर शेयर किए गए इस पोस्टर में साफ़ तौर पर लिखा था कि वोट नहीं श्रद्धांजलि। इसके साथ ही विक्रमादित्य सिंह ने अपने पोस्ट के कैप्शन में लिखा कि श्री वीरभद्र सिंह द्वारा किए गए कामों को विनम्र श्रद्धांजलि, वहीं विचार वही सोच हिमाचल का सर्वत्र विकास। मंडी संसदीय क्षेत्र के अधूरे पड़े विकास कार्य को सही मुक़ाम तक पहुंचाना हैं।

जनता ने कैसा दिया जवाब- खुद ही पढ़ लें आप 

इस पोस्ट के बाद विक्रमादित्य सिंह सोशल मीडिया पर खूब ट्रेंड हो रहे हैं। उनके पोस्ट पर लोगों की अलग-अलग प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। 

  • प्रतिभा ठाकुर नाम की एक यूजर ने इस पोस्ट पर लिखा कि दोराय नही की राजा साहब जैसा व्यक्तित्व बिरले ही प्रकट होते है परंतु एक के कार्य का श्रेय दूसरा क्यों ले
  • यदि राजमाता प्रतिभा सिंह में दम है तो जहाँ की पहले भी सांसद रही है उसी मंडी लोकसभा क्षेत्र में किये अपने पूर्व कार्यों के आधार पर जनता से मत मांगिये सात्वना , श्रद्धांजलि के नाम पर जनता की भावनाओं के साथ खिलवाड़ मत कीजिये।।
  • ज्योति पराशर नामक एक यूजर लिखती हैं कि हम राजा जी के कामों का श्रेय राजा जी को देते है। वो पूरा हिमाचल मानता है,,,, लेकिन श्रद्धाजंलि के नाम पर वोट माँगना उस पवित्रात्मा का अपमान है।
  • अभिषेक ठाकुर नाम एक यूजर ने पोस्ट पर लिखा कि श्र्धांजलि के नाम पे वोट बैंक की राजनीति
  • यहां तक कि संस्कृति मंच हिमाचल नामक एक फेसबुक हैंडल से लिखा गया कि श्रधांजलि के नाम पर वोट नहीं मांगने चाहिए
  • इस पोस्ट पर विनोद शर्मा नामक एक यूजर लिखते हैं कि श्रंद्धांजलि के नाम पर वोट लेना एक तुच्छ राजनीती है। हम आपसे एसी उमिंद नही करते राजा विक्रमादित्य जी। ये पोस्टेर देख कर काफी आहत हूं ओर राजनीती के गिरते स्तर को लेकर चिंतित भी।

हमारे ख्याल से अब इतना काफी होगा बातों को स्पष्ट करने के लिए बाकी इस तरह के कई सारे कमेन्ट आप खुद माननीय विधायक के पोस्ट पर जाकर पढ़ सकते हैं। 

Post a Comment

0 Comments