हिमाचल पुलिस ने अपने बच्चों के फीस में मांगी छूट, प्रबंधन ने कहा: सबको हुई थी परेशानी

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल पुलिस ने अपने बच्चों के फीस में मांगी छूट, प्रबंधन ने कहा: सबको हुई थी परेशानी

हमीरपुर : हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले में पुलिस विभाग द्वारा खुद को फ्रंटलाइन वर्कर बताते हुए निजी स्कूलों को पत्र लिखकर वहां पढ़ रहे पुलिस कर्मियों के बच्चों की फीस में रियायत मांगी गई थी। जिस पर निजी स्कूल प्रबंधन ने फीस कम करने से इंकार कर दिया है। 

कोरोना काल में भी मिला वेतन :

निजी स्कूल प्रबंधन का कहना है कि पुलिस विभाग के अलावा स्वास्थय विभाग सहित अन्य कई श्रेणियों के कर्माचारियों को भी सरकार द्वारा फ्रंटलाइन वर्कर घोषित किया गया है। ऐसे में अगर वे पुलिस कर्मियों के बच्चों की फीस कम करते हैं तो अन्य विभाग के कर्मी भी उनके बच्चों की फीस कम करने को लेकर मांग उठा सकते हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल : आधी रात को दूसरे के घर में घुसा शराबी, तीसरी मंजिल से नीचे कूदा; थाने पहुंची पत्नी

निजी स्कूल प्रबंधकों का कहना है कि कोविड-19 लॉकडाउन के चलते 2020 से निजी स्कूल संचालकों को अपने टीचिंग व नॉन टीचिंग स्टाफ को वेतन, स्कूल बसों और स्कूल भवनों के रखरखाव सहित अन्य खर्च करना मुश्किल हो रहा है। जबकि निजी स्कूलों की ओर से कोरोना को मद्देनजर रखते हुए  इस बार फीस में भी कोई वृद्धि नहीं की गई है। 

हर किसी को झेलनी पड़ी परेशानी:

हालांकि, लंबे समय से स्कूल बंद होने के चलते लोगों को काफी परेशानियां झेलनी पड़ी हैं। इतना ही नहीं निजी सेक्टर में काम करने वाले अभिभावक भी आर्थिक मंदी से परेशान हैं। जबकि पुलिस विभाग के हर कर्मचारी को समय समय पर वेतन मिलता रहा है। ऐसे में पुलिस विभाग में सेवाएं दे रहे कर्मचारियों के बच्चों के लिए फीस कम करना मुश्किल है।

जानें क्या बोलीं एसपी हमीरपुर:

इस मसले पर एसपी हमीरपुर डॉ आकृति शर्मा ने बताया कि कुछ संस्थानों ने पुलिस कर्मचारियों के बच्चों की फीस में छूट दी है। इसलिए अन्य जिला के संस्थानों से भी आग्रह किया गया है। संस्थान चाहें तो छूट दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह महज आग्रह किया गया है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: बच्चों के लिए स्कूल खुले लेकिन नियम हैं काफी सख्त, जानिए क्या-क्या करना होगा

वहीं, दूसरी ओर इस मामले पर उच्चतर शिक्षा विभाग के उपनिदेशक दिलबर जीत चंद्र ने जानकारी देते हुए बताया कि इस संबंध में निजी स्कूलों को पत्र लिखने की सूचना मिली है। 

उन्होंने कहा कि कोई भी अधिकारी सीधे तौर पर इस तरह पत्र नहीं लिख सकता है। इतना ही नहीं प्रदेश सरकार से फ्रंटलाइन वर्कर के बच्चों के लिए शुल्क में छूट देने के बारे में कोई आदेश नहीं मिले हैं।

Post a Comment

0 Comments