हिमाचल: कोरोना काल में ली नर्सों से सेवाएं- कंपनी ने दिखाया बाहर का रास्ता, आंदोलन की चेतावनी

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिमाचल: कोरोना काल में ली नर्सों से सेवाएं- कंपनी ने दिखाया बाहर का रास्ता, आंदोलन की चेतावनी


मंडी।
हिमाचल प्रदेश समेत पूरे देश में जब कोरोना वायरस का कहर हावी था, उस वक्त स्वास्थय विभाग में कार्यरत हर तरह के कर्चारियों ने दिन रात एक कर लोगों की सेवा की, लेकिन अब उन्हें उस सेवा के बदले नौकरी से बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है। मामला सूबे के मंडी जिले से सामने आया। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल की बेटी का हरियाणा में हुआ विवाह: पत्नी को काला रंग होने का ताना व 10 लाख की FD की मांग

जहां महामारी के दौरान कोविड केयर सेंटर में आउटसोर्सिंग स्टाफ के तौर पर सेवाएं देने वाली स्टाफ नर्सों को कंपनियों ने बाहर का रास्ता दिखाने का मन बना लिया है। अब यह बात सामने आने के बाद स्टाफ नर्सों के बीच रोष का माहौल बन गया है। अपने इस समस्या को लेकर शनिवार को स्टाफ नर्सों का एक प्रतिनिधिमंडल अतिरिक्त उपायुक्त मंडी जतिन लाल से मिला और प्रदेश सरकार को एक ज्ञापन भेजा।

सरकार के खिलाफ उग्र आंदोलन करेंगी नर्सें 

इन स्टाफ नर्सों द्वारा इस बात की मांग उठाई गई है कि उनके भविष्य के लिए सरकार पॉलिसी बनाए तो उसमें नियुक्ति के लिए इन्हें ही पहले अधिमान दिया जाए। स्टाफ नर्सों के अनुसार 6 महीने पहले 60 स्टाफ नर्सों की ड्यूटी कोविड केयर सेंटर खलियार मंडी में लगाई गई थी। इस दौरान उन्होंने अपनी जान जोखिम में डाल मंडी जिला के अन्य अस्पतालों में भी अपनी सेवाएं दी। परंतु अब उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: ढाबे के 32 वर्षीय कामगार ने शराब के साथ गटक लिया जहर, टूटा दम

स्टाफ नर्सों का कहना है कि सरकार उन्हें बाहर निकाल कर नई पॉलिसी बनाने जा रही है। उन्होंने कहा कि नई पॉलिसी में यदि उन्हें नजरअंदाज किया जाता है तो वह सरकार के खिलाफ उग्र आंदोलन का रास्ता अख्तियार कर देंगी। जिसकी जिम्मेदार हिमाचल प्रदेश की सरकार होगी। 

Post a Comment

0 Comments